अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत दलोदा इकाई ने नवरात्रि से आने वाले सभी त्योहारों को हर्षोल्लास मनाने की अनुमति की मांग का सौंपा ज्ञापन

महावीर अग्रवाल

मन्दसौर २४ सितम्बर ;अभी तक; अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत जिला मंदसौर की दलौदा इकाई भारत सरकार के प्रधानमंत्री मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं मंदसौर जिला के कलेक्टर के नाम दलौदा तहसीलदार संजय मालवीय को ज्ञापन सौंपा जिसमें मांग की गई है कि नवरात्रि पर्व से आगे आने वाले सभी वर्ग एवं समुदाय के त्योहारों को कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए मनाने की अनुमति दी जाए जिसमें नवरात्रि पर्व में गरबे का ही अधिक अधिक महत्व रहता है अतः शासन प्रशासन से मांग है कि नवरात्रि पर्व में एक सीमित संख्या का मापदंड बनाकर गरबे के आयोजनों की अनुमति प्रदान की जाए
               अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत के जिला उपाध्यक्ष अजय शर्मा एवं दलौदा इकाई के सभी सक्रिय कार्यकर्ताओं ने संयुक्त रूप से बताया कि अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत संगठन ग्राहक हित में कार्य करता है और आम नागरिक के साथ-साथ प्रत्येक दुकानदार भी कहीं ना कहीं एक ग्राहक ही होता है और ग्राहक पंचायत का कार्य है ग्राहक हित में कार्य करना अतः ग्राहक पंचायत में आने वाले सभी त्योहारों के लिए मांग की है कि कोरोनावायरस जिस तरीके से व्यापारी और आम जनता की आर्थिक क्षति हुई है जिसे कुछ हद तक भरपाई के लिए विशेष त्यौहार ही सहयोगी के रूप में कार्य करते हैं अतः इन विशेष त्योहारों पर भी अगर आयोजन ना हुए अगर हर्षोल्लास के साथ त्यौहार ना मनाया गया तो व्यापारी वर्ग पूरी तरीके से टूट जाएगा कहीं ना कहीं प्रिय त्योहार कि ग्राहक की ही व्यापारी के लिए मूल आधार होता है उन्होंने बताया कि जब सरकार अपने हितों के लिए सार्वजनिक आयोजनों पर पाबंदी नहीं लगा सकती है तो आम जनता और आम व्यापारियों के लिए क्यों त्योहारों को मनाया मनाने से रोका जा रहा है कोविड-19 के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए गरबे ईद क्रिसमस सभी त्योहारों को मनाने की अनुमति की मांग अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत करता है ।
               राजनीतिक पार्टियां जिस तरह से नियमो की धज्जियां उड़ा कर आम सभाएं कर रही है, भीड़ इकट्ठा कर रही है, तो क्या उन सभी जिम्मेदार लोगों पर कोविड-19 के नियम लागू नहीं हो रहा है क्या उन लोगों पर कोविड-19 के नियमों के तहत कार्यवाही की जाएगी।
                अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत दलौदा इकाई ने बताया कि नियम सभी के लिए समान होते हैं अतः या तो आने वाले सभी राजनीतिक पार्टियों की सभाएं आयोजन हो उन्हें निरस्त किया जाए उन्हें अनुमति न दी जाए या फिर आने वाले सभी त्योहार जो किसी भी वर्ग विशेष समुदाय के हैं उन्हें हर्षोल्लास के साथ मनाने की अनुमति प्रदान की जाए।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *