अधर्म चर्चा प्रसंग में कान बंद और मुंह खुला रखना चाहिए

3:41 pm or July 20, 2022
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर  २० जुलाई ;अभी तक;  सत्संग-धर्म चर्चा में कान खुले और मुंह बंद होना चाहिए तथा अधर्म चर्चा प्रसंग में कान बंद और मुंह खुला रखना चाहिए।*ल  सातवें दिवस मनोकामना अभिषेक में 21 जोड़ों श्रद्धालुओं ने किया अभिषेक
                 मंदसौर भगवान श्री पशुपतिनाथ मनोकामना अभिषेक के सातवें दिवस में 21 जोड़ों और श्रद्धालुओं ने अभिषेक कर भगवान पशुपतिनाथ से संपूर्ण विश्व को त्रसित करने वाले कोरोना रूपी कलयुग के इस महादेत्य का एक बार फिर से अपना तीसरा नेत्र खोलकर भस्म करने और राष्ट्र में परस्पर प्रेम- सद्भाव – सौहार्द्र – अमन-चैन – कायम रखने की प्रार्थना की
                 मनोकामना अभिषेक के आचार्य पंडित श्री विष्णु प्रसाद ज्ञानी ने अपने प्रेरक संदेश में कहा कि जहां सत्संग एवम भगवत चर्चा हो रही हो वहां पर परस्पर वार्तालाप अन्य चर्चा नहीं करते हुए मुंह बंद रख कर ध्यनास्त होकर कानों से कथा प्रसंग को सुनना चाहिए परंतु जहां अधर्म- राग- द्वेष- आपस में वेर भाव – वैमनस्यता- की चर्चा हो रही हो वहां पर कान बंद रखकर सुनना भी नहीं चाहिए परंतु मुंह खोल कर यदि हो सके तो उसका विरोध अवश्य करना चाहिए।
                   श्री पशुपतिनाथ प्रबंध समिति ने सभी शिव भक्तों श्रद्धालुओं से भगवान भोलेनाथ की आराधना के इस पवित्र श्रावण मास में भगवान पशुपतिनाथ के सानिध्य में बैठकर मनोकामना अभिषेक में अधिक से अधिक संख्या में सामूहिक रूप से अथवा व्यक्तिगत तौर पर सम्मिलित होकर पुण्य लाभ अवश्य लेना चाहिए जो समाज जन सामूहिक रूप से अपनी सुविधा अनुसार जिस दिन अभिषेक करना चाहते है उस दिन अपना नाम समाज का नाम पशुपतिनाथ कार्यालय में आकर लिखा सकते हैं अथवा फोन नंबर 7976975075 अथवा  7000 75 3100  पर संपर्क कर सकते हैं।