अपनी अव्य्स्क  बालिका के साथ दुष्कृत्य करने वाले पिता और उसके सह आरोपी को हुआ आजीवन कारावास।  

6:36 pm or July 23, 2022
विधिक संवाददाता
    इंदौर २३ जुलाई ;अभी तक; जिला अभियोजन अधिकारी श्री संजीव श्रीवास्तव ने बताया कि दिनांक 21/07/2022 न्यायालय- श्रीमती सुरेखा मिश्रा, तेरहवें अपर सत्र न्याायाधीश एवं विशेष न्या याधीश (पॉक्सो एक्ट), जिला इंदौर के न्यायालय में थाना हातोद के अपराध क्रमांक 180 /2019 जिला इंदौर में निर्णय पारित करते हुए आरोपीगण xyz निवासी – जिला इंदौर  को दोषी पाते हुए धारा 376(3) 376(2)(एफ)(एन) भादवि में आजीवन कारावास एवं आरोपी पिता को धारा 5एन/6 एवं 17 पॉक्सोर एक्ट में भी आजीवन कारावास कुल 04 बार आजीवन कारावास व दोनों आरोपीगण पर कुल 11000 रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया गया । प्रकरण में अभियोजन कि ओर से पैरवी विशेष लोक अभियोजक श्रीमती सुशीला राठौर एवं एडीपीओ श्रीमती पदमा जैन द्वारा की गई  ।
नोट:- न्या यालय द्वारा उक्तर अपराध को घृणित अपराध की श्रेणी मानते हुये टिप्प णी की है कि – ऐसे आरोपी व्याक्तियों को कठोरतम दण्डण से ही दण्डित किया जाकर शेष प्राकिृतक जीवनकाल के लिये कारावासित किया जाना सही है एवं न्या यालय द्वारा पीडिता बालिका को 3 लाख रूपये प्रतिकर दिलाये जाने की अनुशंसा की है ।
                          अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि पीडित बालिका ने 23/10/2019 को थाने पर सूचना दी कि वह हातोद के गांव में कक्षा 8वीं में पढती हॅू । दिनांक 10/02/2019 को बसंत पंचमी के दिन उसके अंकल की लडकी की शादी में अपने माता पिता के साथ गई थी उसी दिन रात में करीब 09 बजे उसके पापा शादी वाले घर से उसे अपने घर लाये और उसका मुंह दबाकर उसके साथ खोटा काम किया ओर बोले कि यह बात बताई तो जान से खत्मप कर दूंगा । आज से करीब 01 माह पहले शाम 7 बजे वह अपने घर के सामने खेल रही थी उसके पापा ने उसे बुलाया और राम मंदिर ले गये तथा उसके गॉव के उनके साथी (दूसरे आरोपी ) के साथ अकेला छोड दिया और कहा कि तुम्हेंे ये प्यातर करेंगे और ऐसा कहकर चले गये उसके बाद उन अंकल ने उसे राम मंदिर के पीछे ले जाकर उसके साथ खोटा काम किया और कहा कि अगर किसी को कहा तो जान से मार देंगे । डर के कारण उसने यह बात किसी को नहीं बताई । उन अंकल ने उसके साथ अकेला देखकर कई बार खोटा काम किया और उसके साथ छेडछाड भी कई बार की । आज जब मेडम क्ला स में किशोर अवस्थाा (गुड टच,बेड टच) के बारे में बता रही थी तो उसने मेडम को सारी घटना बताई फिर प्रिंसीपल मेडम के साथ थाने पर रिपोर्ट लिखाने आयी हॅू । उक्ते सूचना पर से आरोपीगण के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया । सम्पूूर्ण विवेचना उपरांत आरोपीगण के विरूद्ध अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया गया । जिस पर से आरोपीगण को उक्त सजा सुनाई गई ।