अपात्रों को लौटाना पडे किसान सम्मान निधि के करीब 2 करोड रूपये,झूठा घोषणापत्र भरा तो आधार मैंपिंग में पकड़ाए

मयंक शर्मा

खंडवा ६ नवंबर ;अभी तक;  जिले में किसान सम्मान निधि पाने वालो मेें अपात्र की भरमार का खुलासा हुआ है और योजना का लाभ लेने में इनकी झूठ का खुलासा आधार मेंपिग में हुआ हे।आयकर भरने व पेंशन लेने अथवा सरकारी कर्मी होने के  बावजूद  किसान व उनके परिजन ने जानकारी छुपाते हुये त्रृटि पूर्ण घोषणा पत्र भरकर किसान सम्मान योजना का लाभ लेते हुये डकार गये ।

खंडवा जिले के ग्राम परेठी के किसान सखाराम का मामला उजागर होने के बाद उनकी, पत्नी प्रेमबाई सहित अन्य 9 के बैंक खाते सील कर दिए गए। खंडवा तहसीलदार ने ग्रामीण झाबुआ बैंक सहित अन्य बैंक शाखाओं को निर्देश दिए हैं कि ये लोग किसान सम्मान निधि के लिए अपात्र की श्रेणी में आते हैं इसलिए इनके आहरण पर रोक लगाई जाए। शर्तो के आधार पात्र अपात्र में विभााजित कर उन किसानो को योजना  लाभ से दूर रखा गया हैे जो किसान ं आयकरदाता हो या सरकारी कर्मी या  पेंशनधारी हो।

यह बात संज्ञान में आने पर कि कुछ अपात्र लोगों ने झूठे घोषणा पत्र भरकर योजना का लाभ ले रहे है। शासन ने ऐसे अपात्रो के तलासन ें लिये आधार मेपिग का कदम उठाया तो खडवा जिले में अब तक अपात्र किसानो का आंकडा 700 ेको पार कर गया है। अपने खिलाफ कार्रवाई की सरकार की  तैयारी भापंते हुये करीब 70 प्रतिशत लोगों ने सम्मान निधि की राशि लौटा दी है।  अब तक 1.80 करोड़ रु. में से करीब 1.26 करोड़ वसूले जा चुके है।
तहसीलदार प्रतापसिंह अगास्या ने आगे बताया कि  झूठे घोषणापत्र देने वालों पर  कार्रवाई जारी है। उन्होने बताया कि  जब योजना शुरू हुई थी तब जिले के शासकीय सेवक, पेंशनर्स व करदाता किसानों ने भी घोषणपत्र भरे थे और स्वयं के आयकरदाता होने की जानकारी छुपाई थी। शासन के निर्देश पर जब आधार सीडिंग से इनकम टैक्स के रिकार्ड परखे गये तो झूठे घोषणापत्र भरे जाने की जानकारी सामने आई। पूरे जिले में अब तक 350 आयकरदाता, 200 शासकीय सेवक और इससे  अधिक  पेंशनर्स के प्रकरण सामने आये है जिनके  खिलाफ कार्रवाई की है। इनमें से 70ः ने शासन से आई राशि लौटा दी। सभी अपात्र किसानाो  खाते सील कर दिए गए।

शासन के निर्देश पर जब जिला प्रशासन की टीम ने लाभार्थियों की मैपिंग की तो सैकडो अपात्र  (आयकरदाता सरकारी कर्मचारी, व पेंशनर्स ) के चेहरे सामने आये।  अब तक करीब 600 से अधिक अपात्र में से करीब   70 फीसदी अपात्र  किसानो ने सम्मान निधि की राशि शासन को लौटा दी।

उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को आर्थिक मदद के रूप में पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानो को प्रति साल 6 हजार रूपये की राशि वांछित किसान के   बैेक खाते में यह राशि तीन बराबर किस्तों में ं डाली जाती है।  यह योजना फरवरी 2019 को शुरू की गई है। योजना के तहत अब तक जारी 6 किश्तो में पहली किस्त फरवरी 2019, दूसरी किस्त 2 अप्रैल 2019, तीसरी किस्त अगस्त 2019, चैथी किस्त जनवरी 2020, 5वीं किस्त 1 अप्रैल, 2020 व छठी किस्त 1 अगस्त 2020 को किसानों को जारी की जा चुकी है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *