अफीम की खेती में 3 सगे भाइयों सहित 4 पर मामला दर्ज

देवेश शर्मा

मुुरैना 5 मार्चा  ;अभी तक; ; जिले की सबलगढ़ तहसील स्थित चंबल नदी किनारे के बीहड़ों में  लहलहा रही अफीम की खेती करने के मामले में सबलगढ़ पुलिस ने चार आरोपितों पर मामला दर्ज कर लिया है। अफीम की खेती करने वाले आरोपितों में से तीन सगे भाई हैं। सभी आरोपित फरार हैं, जिनकी तलाश में पुलिस पार्टियां जुटी हुई हैं।

गौरतलब है कि बुधवार की शाम सबलगढ़ पुलिस ने राजस्थान की सीमा व चंबल नदी किनारे खेरौन-चौकपुरा के बीहड़ों में अफीम की खेती पकड़ी थी। यहां 4 बीघा से ज्यादा जमीन में अफीम के पौधे लहलहा रहे थे। बुधवार को  इन खेतों से काटी गई अफीम से चार ट्रालियां भर गईं। गुरुवार को इन्हें तौला गया तो 70 क्विंटल से ज्यादा वजन निकला। पुलिस के अनुसार इसका बाजार मूल्य 10 करोड़ रुपये से ज्यादा है।

 थाना प्रभारी सबलगढ नरेन्द्र शर्मा के अनुसार बीहड़ की जिस जमीन पर यह खेती हो रही थी, वह सरकारी थी, लेकिन इस पर कब्जे चोखपुरा गांव के चार किसानों का कब्जा था। तहसील के रिकार्ड पर इनकी पहचान की गई और उसके बाद पुलिस ने कल्ला पुत्र हरीसिंह मल्लाह, मुन्नाा पुत्र हरीसिंह मल्लाह, मुंशी पुत्र हरीसिंह मल्लाह और महेन्द्र पुत्र छत्तू मल्लाह पर एफआइआर दर्ज की है। सबसे ज्यादा 3 बीघा में अफीम महेन्द्र मल्लाह के खेतों में हो रही थी, इसलिए पुलिस नशे की इस खेती का मास्टर माइंड महेन्द्र मल्लाह को मान रही है।

उन्होंने बताया कि  अफीम की इस खेती में पुलिस को राजस्थान के अलावा दूसरी जगहों के कुछ तस्करों के शामिल होने का पूरा संदेह है। ऐसा इसलिए क्योंकि इतने बड़े पैमाने पर खेती तभी हो सकती है जब इस खेती के कटने के बाद भारी मात्रा में होने वाली अफीम का कोई खरीदार है। पुलिस को संदेह है कि यह लोग पहले भी इस तरह की खेती कर चुके हैं। सबलगढ़ टीआइ नरेन्द्र शर्मा ने कहा कि चारों आरोपित फरार हो गए हैं, इनके पकड़ में आने के बाद ही इन सवालों के सही जवाब मिलेंगे। टीआइ शर्मा ने कहा कि इस अपराध में जो-जो शामिल होगा उस पर सख्त कार्रवाई होगी।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *