अब जिले में भी मिट्टी के दीये बेचने वालों को नहीं देना होगा बाजार शुल्क

मयंक भार्गव

बैतूल २७ अक्टूबर ;अभी तक;  दतिया जिले की तरह अब बैतूल जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों के साथ ही ग्रामीण हाट बाजारों में भी दीपावली के पूर्व मिट्टी के दीये बेचने वाले कुम्हार सहित अन्य ग्रामीणों को बाजार टेक्स नहीं देना होगा। लोकल फार वोकल को बढ़ावा देने और मिट्टी के दीये बेचने वालों को प्रोत्साहित करने की पहल करते हुए राष्ट्रीय जनादेश ने 24 अक्टूबर को मिट्टी के दीये बेचने वालों से नगरीय क्षेत्र में नहीं की जाए कर वसूली शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर दतिया कलेक्टर द्वारा इस संबंध में दिए गए आदेश का हवाला देते हुए बैतूल में भी इस प्रकार के आदेश जारी करने हेतु पहल की थी। 24 अक्टूबर को उक्त समाचार प्रकाशित होने के दो दिन बाद ही मंगलवार को बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस ने इस संबंध में आदेश जारी कर जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में लगने वाले हाट बाजार में भी मिट्टी के दीये बेचने वालों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं होने और इनसे बाजार शुल्क नहीं लेने के निर्देश दिए है। साथ ही मिट्टी के दीयों के उपयोग हेतू लोगों को प्रोत्साहित करने के आदेश अधीनस्त अधिकारियों को दिए है।

दतिया कलेक्टर ने पहले दिए थे आदेश

ज्ञातव्य हो कि लोकल फॉर वोकल को बढ़ावा देने दतिया कलेक्टर संजय कुमार ने अनूठी पहल करते हुए विगत 22 अक्टूबर को आदेश जारी करते हुए जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों में मिट्टी के दीये बनाने वाले कुम्हार सहित अन्य लोगों से नगरीय क्षेत्रों में बाजार शुल्क नहीं लेने के आदेश दिए थे। इसके साथ ही दीपावली पर्व पर मिट्टी के दीये का अधिक से अधिक उपयोग करने हेतू प्रोत्साहित करने के आदेश दिए थे।

दतिया कलेक्टर ने लोकल फॉर वोकल को बढ़ावा देने के साथ ही पर्यावरण संतुलन बनाने भले ही छोटी सी पहल की थी लेकिन इसका उद्देश्य बड़ा था। इसी के चलते दैनिक राष्ट्रीय जनादेश ने भी दतिया कलेक्टर के आदेश के आधार पर विगत 24 अक्टूबर को मिट्टी के दीये बेचने वालों से नगरीय क्षेत्र में नहीं की जाए कर वसूली शीर्षक से प्रकाशित कर बैतूल जिले में भी इस प्रकार के आदेश जारी करने की पहल की थी। ताकि जिले में मिट्टी के दीये बनाने वाले कुम्हार परिवारों के साथ ही अन्य ग्रामीण भी शहरी क्षेत्र में आकर मिट्टी के दीये आसानी से बेच सके।

बैतूल कलेक्टर ने भी जारी किए आदेश

विगत 24 अक्टूबर को उक्त समाचार प्रकाशित होने के बाद बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस ने भी लोकल फॉर वोकल को बढ़ावा देने, मिट्टी के दीये बनाने वाले कुम्हार सहित अन्य ग्रामीणों को प्रोत्साहित करने जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी मिट्टी के दीये बेचने आने वाले कुम्हार सहित अन्य ग्रामीणों से बाजार शुल्क नहीं लिए जाने के निर्देश दिए है। कलेक्टर श्री बैस द्वारा पुलिस अधीक्षक, जिला पंचायत सीईओ, जिले के सभी एसडीएम, सभी तहसीलदार, सभी जनपद पंचायत सीईओ, सभी नगरपालिका एवं नगर परिषद सीएमओ को निर्देश दिए है कि उक्त आदेश का कड़ाई से पालन किया जाए साथ ही मिट्टी के दीयों के उपयोग हेतू लोगों को प्रोत्साहित भी किया जाए।