अमावश्या व शारदीय नवरात्रत्र के पूर्व दिवस नर्मदा तटो पर उमडा आस्था का सैलाब

मयंक शर्मा

खंडवा १६ अक्टूबर ;अभी तक; शारदीय नवरात्रि के पूर्व दिवस आज शुक्रवार को अमावश्या पर जनआस्था का हूजूम नर्मदा के तटों पर उमडा। कोई सात माह बाद प्रशासन की न तो नर्मदा स्नान पर पाबदी थी  न ही आवाजाही पर।

सर्वाधिक जनसैलाव  तीर्थनगरी ओंकारेश्वा तथा मोरटक्का, खेडी घाट पर उमडा जहां करीब 1 लाख से अधिक श्रद्धालुओ ने अतावश्या केे साथ नवरात्र पर्व के पहले की आस्था की डुबकी लगाई।

मांधाता थाना प्रभारी जगदीश पाटीदार ने बताया कि भीड को देखते हुये सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे। ओंकाारेश्वर मे नर्मदा में उुबकी लगाने के बाद श्रद्धालुओ ने अपने को ज्योंतिर्लिग ओंकारेश्वर के दर्शन के लिये कतारबद्ध किया।

प्रशासनिक पांबदिया ध्वस्त होने के साथ करीब 7 माह बाद  नर्मदा स्नान में कोराना संक्रमण बाधक नहीं रहा और श्रद्धालुओं ने जीभर नर्मदा स्नान का लुपत उठाया।

शनिवार 17 अक्टूबर से  शारदीय नवरात्र का आरंभ हो रहा है.।पंडित रमेश शर्मा ने बताया कि इस बार माता घोड़े पर सवार होकर आ रही हैं. । शनिवार 17 अक्टूबर को घट स्थापना के साथ मां अम्बे की आराधना शुरू हो जाएगी. ।

श्री शर्मा ने बताया कि देवी जब घोडे पर सवार होकर आती है तो युद्ध की आशंका बढ़ जाती है.। भारत के साथ चीन और पाकिस्तान का सीमा विवाद जारी ही है. ऐसे में इसका क्या शुभ-अशुभ फल होगा यह समय ही बताएगा.। उन्होने कहा  नवरात्रि के 9 दिन में चार सर्वार्थसिद्धि व चार रवियोग का संयोग बन रहा है। नवमी तिथि पर संध्या काल में विजयादशमी का पर्व मनाया जाएगा। 25 नवंबर को सुबह नवमी पूजन के उपरांत शाम को दशहरा मनाया जाएगा। घट स्थापना के दिन सर्वार्थसिद्धि योग दिन में 11 बजकर 54 मिनिट से शुरू होगा,।घट स्थापना के साथ नौ दिवसीय पर्व काल का शुभारंभ होगा।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *