अवयस्क बालिका का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 10 वर्ष के कठोर कारावास की सजा

7:30 pm or June 14, 2022
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर  ,उज्जैन १४ जून ;अभी तक;  न्यायालय श्रीमती वन्दना राज पाण्डेय, अपर सत्र न्यायाधीश महोदय, तहसील नागदा के न्यायालय द्वारा आरोपी विक्की पिता भेरूलाल, निवासी तहसील नागदा जिला उज्जैन को धारा 376(1), 366, 3/4 लैंगिक अपराधों से बालकों का सरंक्षण अधिनियम में 10-10 वर्ष का सश्रम कारावास एवं धारा 366 भादवि में आरोपी को 07 वर्ष का सश्रम कारावास एवं कुल 400/- रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।
                   उप-संचालक (अभियोजन) डॉ0 साकेत व्यास ने अभियोजन की घटना अनुसार बताया कि फरियादिया ने दिनांक 16.08.2017 को थाने पर प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध कराई कि, मेरी लडकी जिसकी उम्र 17 वर्ष है। वह रात्रि लगभग 12ः00 बजे जन्माष्टमी का त्यौहार होने से प्रसाद लेने गई थी। काफी देर होने पर वह रात्रि 01ः00 बजे तक घर नहीं लौटी तो मैंने घर व घर के आस पडोस में एवं रिश्तेदारी में तलाश किया, किन्तु मेरी लडकी का कहीं पता नहीं चला। मुझे शंका है कि मेरी लड़की को विक्की बहला-फुसलाकर भगाकर कही ले गया हैं। फरियादी की रिपोर्ट पर से पुलिस थाना द्वारा अपराध पंजीबद्ध किया गया। पुलिस द्वारा पीड़िता को दस्तयाब किया गया पीड़िता ने अपने कथन में बताया कि अभियुक्त उसे बहला फुसलाकर लेकर गया था एवं उसके साथ दुष्कर्म किया था। पुलिस द्वारा अनुसंधान पूर्ण कर न्यायालय में अभियोग पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर आरोपी को दण्डित किया गया।
प्रकरण में पैरवी विशेष लोक अभियोजक तहसील नागदा, जिला उज्जैन द्वारा की गई।