अवैध शराब छापेमार कार्रवाई ; तकरीबन 200 पुलिसकर्मी 50 अधिकारी के बावजूद नहीं पकड़ पाए आरोपी

भिण्‍ड से डॉ. रवि शर्मा-

भिंड २५ दिसंबर ;अभी तक; भिंड की गोरमी थाना पुलिस ने अकलौनी गांव से अवैध रुप संचालित हो रही शराब फैक्टरी को पकड़ा। इस कार्रवाई में पुलिस के हत्थे आए दो आरोपी फिसल गए। पुलिस आरोपियों के भागने पर गोलमोल जवाब दे रही है। फिलवक्त, पुलिस शराब का कारोबार पकड़े जाने की सफलता पर पीठ थपथपा रही है। पुलिस के मुताबिक एक साल में अकलौनी से तीसरी बड़ी कार्रवाई है।

यह है मामला

प्रदेश के राज्यमंत्री ओपीएस भदौरिया का पैतृक गांव में लंबे समय से शराब की फैक्टरी संचालित होती आ रही थी। यहां शराब माफिया फैक्टरी में भारी मात्रा में शराब को तैयार करके पंचायत चुनाव में खफाने की प्लानिंग बनाए बैठे थे। दिन-रात अवैध रुप से शराब तैयार हो रही थी। यह सूचना पर भिंड एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान ने गोरमी पुलिस को कार्रवाई के लिए निर्देशित किया। इसके बाद शराब फैक्टरी पर छापामार कार्रवाई की। यह शराब फैक्टरी अकलौनी में रहने वाले संदीप पुत्र बिहारी सिंह भदौरिया के घर में तैयार हो रही थी। पुलिस ने जब रात के अंधेरे में छापामारा तो शराब फैक्टरी में संदीप भदौरिया और शैलू भदौरिया मिले। इसके बाद पुलिस को गुमराह करके दोनों आरोपी भाग निकले। हालांकि आरोपियों के भागने पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं?

फैक्टरी से बरामद माल

84 पेटी देशी मदिरा प्लेन, 16 पेटी देशी मशाला, 4 ड्रम ओपी यानी 805 लीटर व शराब पैकिंग मटेरियल, पैकिंग मशीन, फिल्टर मशीन, सीलिंग मशीन, खाली प्लास्टिक के क्वार्टर आदि बरामद हुआ। जिसकी कीमत करीब 15 लाख की बताई जा रही है।

अकलौनी गांव शराब माफियों का अड्‌डा

पुलिस के मुताबिक यहां पिछले एक साल में तीसरी बार शराब की अवैध फैक्टरी पकड़ी गई। इसके पहले 17 जून को शराब फैक्टरी पुलिस ने पकड़ा था। लॉकडाउन के दौरान भी पुलिस ने एक घर से भारी मात्रा में शराब बरामद की थी।