अस्तित्व की लड़ाई है लोकसभा खंडवा उपचुनाव – सीएम

मयंक शर्मा
खंडवा ७ अक्टूबर ;अभी तक;  मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान ने गुरूवार को यहां बूथ प्रभारियों
को संबोधित करते हुए कहा कि, पार्टी चेहरा देखकर या मांगने पर टिकट नहीं
देती है।भाजपा  में कार्यकर्ता की पहचान होती है। मोदी, शाह, गडकरी से
लेकर शिवराज और वीडी शर्मा के पूर्वज पार्टी में नहीं थे। मेरे से कभी
ज्ञानेश्वर पाटिल ने ये नहीं कहा कि मुझे टिकट चाहिए। संगठन ने आगे रहकर
ज्ञानेश्वर को टिकट दिया है, अब चुनाव जीताना हमारी जिम्मेदारी है। इधर
टिकट न मिलने से नाराज सांसद स्वत्र नंदकुमारसिंह के बेटे हर्षवर्धन  ,
नामांकन सभा में नहीं आए।
                        खंडवा लोकसभा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी ज्ञानेश्वर पाटिल ने गुरुवार
दोपहर को नाम-निर्देशन पत्र दाखिल किया। उनके साथ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह
चैहान व प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा मौजूद थे। इसके बाद उत्कृष्ट स्कूल
ग्राउंड पर आयोजित नामांकन सभा को सीएम ने संबोधित किया।, मंच पर करीब एक
दर्जन कैबिनेट मंत्री, संगठन के नेता व सभा में बूथ प्रभारी मौजूद थे।।
सीएम ने आगे कहा कि  बूथ प्रभारियों को  घर-घर जाकर मोदी सरकार की
उपलब्धियों को गिनाना होगा। हमें हर बूथ पर जीत चाहिए, यह अस्तित्व की
लड़ाई है इसलिए कार्यकर्ता यह बात ठान ले। विश्वास दिलाता हूं क्षेत्र के
विकास कार्यों को गति दिलाऊंगा। मेरी जनदर्शन यात्रा संसदीय क्षेत्र के
बागली, बड़वाह, मांधाता, नेपागनर और खंडवा के ग्रामीण क्षेत्रों में होनी
थी, लेकिन आचार संहिता लग गई।आचार संहिता के चलते नई घोषणा भी नहीं कर
सकता। लेकिन चुनाव बाद फिर काम करेंगे।