आईटी इंजीनियर ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया है जिसकी मदद से लोगों में मास्क और वैक्सीन के प्रति जागरूकता आई

मयंक शर्मा
खंडवा ६ जून ;अभी तक;  लॉकडाउन के दौरान आईटी इंजीनियर के छात्रों ने मास्क और वैक्सीन के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए एक ऐसा
सॉफ्टवेयर तैयार किया है जिसकी मदद से लोगों में मास्क लगाने और वैक्सीनेशन कराने को लेकर जागरूकता आए। इसका नाम वेक्सीन फार लाईफ रखा है। इसे फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसी साइड ने भी फिल्टर सॉफ्टवेयर को अप्रूवल दे दी है। अभी तक  2 दिन में 700 से ज्यादा युवाओं ने इस
सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है।
                  आईटी इंजीनियर सागर जोशी ने बताया कि कोरोना से बचाने के लिए सरकार द्वारा लगाए गए कोरोना कफ़्र्यू का सही फायदा कैसे उठाया जाए इसकी मिसाल पेश की है। उन्होने कहा कि लॉक डाउन के खाली समय में 15 दिन में एक ऐसा सॉफ्टवेयर बना कर तैयार किया जिसकी हर तरफ तारीफ हो रही है।इसकी मदद से काफी हद तक कोरोना से बचा जा सकता है, साथ ही मास्क और वैक्सीन के प्रति लोगों को जागरूक करने का तरीका भी सॉफ्टवेयर में बताया है।
                   श्री जोशी ने कहा जैसे ही आप फिल्टर सॉफ्टवेयर ओपन करते और बिना मास्क के अपना मुंह खोलते हैं तो मोबाइल में आपके फेस पर वायरस ही वायरस आ जाते है, जिसे ये पता चलता है कि आपके आसपास बहुत वायरस है इसलिए आपको हमेशा मास्क पहनकर बाहर निकलना है। इसके बाद जब आप अपना मुंह बंद करते हैं तो मैसेज आता है कि मैंने वैक्सीन लगा ली है प्लीज आप भी वैक्सीन लगाए क्योंकि कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन ही मददगार है। सागर जोशी ने बताया कि उसको बनाने के पीछे उनका मकसद केवल लोगों को मास्क और वैक्सीन के प्रति जागरूक करना है । उन्होंने अपने सॉफ्टवेयर को फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसी साइड पर रखा है।