आकाशीय बिजली गिरने से महिला की मौत, पति घायल, तेज हवाओं के साथ गिरे ओले

मयंक भार्गव

बैतूल  ५ अक्टूबर ;अभी तक;  मंगलवार दोपहर तेज हवाओं के साथ ओले गिरे वहीं आकाशीय बिजली की चपेट में आने से खेत में काम कर रही महिला की जहां मौत हो गई वहीं उसका पति भी घायल हो गया। यह घटना जिला मुख्यालय से करीब 70 किमी. दूर मुलताई थाने के अंतर्गत आने वाले ग्राम नरखेड़ एवं शेरगढ़ में घटित हुई। दोपहर आंधी तूफान ने जमकर कहर बरपाया साथ ही ओलावृष्टि भी हुई। थाना प्रभारी मुलताई सुनील लाटा ने बताया कि नरखेड़ के खेत में काम रही कंचन साहू (30)  एवं उसका पति नारायण साहू (35) बिजली की चपेट में आ गए। नारायण साहू के भतीजे नवीन साहू ने बताया कि बादलों की तेज गरज के साथ बिजली चमकी जिससे खेत में काम कर रहे उसके चाचा-चाची वहीं गिर गए। इधर उनके द्वारा तत्काल निजी वाहन से दोनों को सरकारी अस्पताल मुलताई लाया जहां उसकी चाची कंचन साहू के चिकित्सक द्वारा मृत घोषित कर दिया। वहीं चाचा का प्राथमिक उपचार कर जिला चिकित्सालय रेफर किया गया है। इसके पूर्व भी बिजली गिरने से ग्रामीण अंचलों में कई मौतें हो चुकी है। ग्रामीणों ने बताया कि तेज धूप के बाद मौसम खराब होता है तथा फिर बिजली गिरने की घटनाएं हो रही है।

तेज हवाओं से टीन शेड उड़ा, बिजली पोल गिरे

नरखेड़ में दोपहर तेज हवाएं चलने से ग्रामीणों को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है। कहीं टीन शेड उड़ गए हैं तो कहीं घर का सामान दूर फिंका गया है। नरखेड़ से शेरगढ़ मार्ग पर स्थित संतकृपा स्टोन क्रेशर के पास बने मकान का तेज हवाओं से पूरा टीन शेड उड़ गया है। संचालक टम्मू सक्सेना ने बताया कि हवाएं इतनी तेज थी कि पहले पक्का लगा टीन शेड उखड़ गया तथा फिर उड़कर दूर जा गिरा। इधर ग्रामीणों ने बताया कि बादलों की गरज तथा बिजली की कड़क के साथ तेज हवाओं ने जमकर कहर ढाया जिससे घरों के आसपास रखा सामान भी दूर जा गिरा। इधर बताया जा रहा है कि तेज हवाओं से बिजली पोल भी गिरे हैं ।

ओलों से प्रभावित हुई फसल

नरखेड़ सहित आसपास मंगलवार बारिश के साथ ओलावृष्टि भी हुई है। ग्रामीणों ने बताया कि बारिश के साथ अचानक ओले गिरने लगे तथा कुछ देर तक जमकर ओले गिरते रहे। ओलावृष्टि से फसलों को सीधा नुकसान हुआ है जिससे किसान परेशान हो गए हैं। ग्रामीणों ने बताया कि अभी तक अतिवृष्टि के कारण फसलें प्रभावित हो रही थी जिसके बाद पीला मोजेक से फसलें खराब हुई अब ओलावृष्टि ने रही सही कसर भी पूरी कर दी एैसे में इस बार किसान को भारी आर्थिक नुकसान पहुंचने की संभावना है। नरखेड़ के ग्रामीणों ने बताया कि ओलावृष्टि से फसलों की जड़े गल जाती है।