आचार्य श्री यशोभद्रसूरिश्वरजी म.सा. के 77 वर्ष के संयम जीवन अनुमोदनार्थ आराधना भवन श्रीसंध द्वारा सकल तीर्थ भावयात्रा का आयोजन

6:33 pm or August 6, 2022
  महावीर अग्रवाल 
मन्दसौर ६ अगस्त ;अभी तक;  5 से 16 अगस्त तक श्री आराधना भवन श्रीसंघ के द्वारा आचार्य श्री यशोभद्रसूरिश्वजी म.सा. के संयम जीवन के 77 वर्ष पूर्ण होने के अनुमोदनार्थ आचार्य श्री पियुषभद्रसूरिश्वजी म.सा. आदि ठाणा 8 की पावन प्रेरणा व निश्रा में संघ सौभाग्य तिलक महोत्सव का अ ायोजन किया जा रहा है। 12 दिवसीय इस महोत्सव के द्वितीय दिवस कल शनिवार को नईआबादी स्थित आराधना भवन मंदिर हाल में सकल तीर्थ भाव यात्रा का अदभूत आयोजन किया गया। मंदसौर नगर में दोनों आचार्यों की पावन निश्रा में पहली बार इस प्रकार का आयोजन हुंआ। इस सकल तीर्थ भावयात्रा में स्वर्गलोक, पाताल लोक व मनुष्य लोग में जितने भी तीर्थ है उनकी भावयात्रा आचार्य श्री पियुषभद्रसूरिश्वरजी म.सा. के मुखारविन्द से कराई गई। इन भावयात्रा में संगीतकार लक्षित जैन ने अपनी अदभूंत संगीत वाणी में कई सुमधुर भजनों की प्रस्तुति दी।
                           आचार्य श्री ने भावयात्रा के दौरान आयोजित धर्मसभा में कहा कि परमात्मा की वंदना या पूजा अर्चना जब भी करो आधे अधूरे मन से नहीं बल्कि प्रसन्नचित भाव से करे। वंदना करने के पूर्व यह कभी न सोचे कि इसका क्या लाभ है। मुझे इसका क्या फायदा मिलेगा बल्कि यह सोचकर करे कि यह मेरा कर्तव्य है। क्येांकि परमात्मा ही सर्व गुण समान है और मैं उसकी वंदन करने का पात्र हूॅ। आपने कहा कि जो भी तीर्थ है परमात्मा के है जो भी व्यक्ति परमात्मा की वंदना करता है उसे किसी ओर के सामने हाथ फैलाने की जरूरत नहीं पड़ती जो प्रभु का दास होता है उसके जीवन में सदैव शुभ होता है, मंगल होता है तथा उसके जीवन में निराशा नहीं आती यदि किसी के जीवन में अमंगल व अशुभ योग होते है तो वे भी परमात्मा की वंदना या पूजा करने से दूर होते है। आपने कहा कि परमात्मा के अस्तित्व पर कभी शक नहीं करना चाहिये बल्कि उस पर श्रद्धा रखना चाहिये। आपने यह भी कहा कि मनुष्य भव में जन्म लेने वाले प्राणी सौभाग्यशाली है। मनुष्य ही अपने जीवन में तप तपस्या सामाजिक प्रतिक्रमण कर मोक्ष मार्ग की ओर प्रवृत्त हो सकता है। धर्मसभा में बड़ी संख्या में धर्मालुजनों ने भावयात्रा का धर्मलाभ प्राप्त किया। धर्मसभा के पश्चात मनोजकुमार ओस्तवाल परिवार लदूनावाला की ओर से प्रभावना वितरित की गई। धर्मसभा का संचालन दिलीप रांका ने किया।
आज 27 लाख नवकार मंत्र के जाप होंगे- आज 7 अगस्त, रविवार को प्रातः 8.45 बज े से 11 बजे तक संजय गांधी उद्यान में आचार्य श्री यशोभद्रसूरिश्वरजी म.सा. के 77 वर्ष के संयम जीवन की अनुमोदनार्थ आयोजित संघ सौभाग्य तिलक महोत्सव के अंतर्गत तृतीय दिवस 27 लाख नवकार महामंत्र के जाप होंगे। जाप में शामिल होने वाले धर्मालुंजन 5-5 नवकार महामंत्र की माला गिनेंगे और सभी धर्मालुजन मिलकर 27 लाख नवकार महामंत्र के जाप करेंगे। आराधना भवन श्री संघ के दिलीप रांका ने बताया कि जाप के उपरांत जाप में शामिल होने वाले धर्मालुजनों का साधर्मी स्वामीवात्सल्य होगा। सभी धर्मालुजनों से आराधना भवन श्री संघ ने पधारने की विनती की है।
अर्हतः महापूजन का आयोजन 14 को– 14 अगस्त को दोप. 12.39 बजे अर्हतः महापूजन का अदभूत आयोजन होगा जिसमें श्रावक श्राविका 24 तीर्थंकरों के माता-पिता बनकर उनकी वंदना व पूजा अर्चना करेेंगे। धर्मालुजन सहभागिता कर धर्मलाभ ले।