आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम अंतर्गत ग्राम कचनारा में विधिक साक्षरता शिविर सम्पन्न

7:16 pm or October 21, 2021
आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम अंतर्गत ग्राम कचनारा में विधिक साक्षरता शिविर सम्पन्न
महावीर अग्रवाल
             मंदसौर 21 अक्‍टुबर ; अभी तक ;  राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के दिशा-निर्देशानुसार 14 नवम्‍बर 2021 तक आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अनुक्रम में माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर श्री विजय कुमार पाण्डेय के मार्गदर्शन में दिनांक को स्थान ग्राम कचनारा, जिला मंदसौर में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया।
                    उपरोक्त कार्यक्रम जिला न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री मो. रईस खान द्वारा पीड़ित प्रतिकर योजना, प्राधिकरण द्वारा निरंतर चलाये जा रहे ’’पंच-ज’’ अभियान पर प्रकाश डाला एवं राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर द्वारा संचालित विभिन्न प्रकार की योजनाओं से विस्तारपूर्वक अवगत कराया। श्री खान द्वारा वरिष्ठ नागरिकों व माता-पिता के भरण-पोषण एवं कल्याण हेतु कानून के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि हमें अपनी संस्कृति को समझना चाहिये। इस अवसर पर श्री खान द्वारा शिक्षा के अधिकार संबंधी विषय पर प्रावधानों से अवगत कराया और बताया कि बच्चे हमारे देश की धरोहर है। अतः बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने हेतु सदैव तत्पर रहना चाहिये साथ ही वर्तमान में मोबाईल के माध्यम से होने वाले विभिन्न प्रकार के अपराधों के कारण मोबाईल का उपयोग सावधानीपूर्वक करने के संबंध में अपील की। नशा मुक्ति के संबंध में बताया कि नशा कई परिवारों के बर्बादी का कारण है। अतः परिवार को बचाने का एकमात्र उपाय नशा मुक्ति ही है। इस अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर द्वारा चलाये जा रहे ’’पंच-ज’’ अभियान की भी जानकारी प्रदान की गई। मोटर व्हीकल एक्ट के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि माता-पिता अपने बच्चों को वाहन तब तक न दें जब तक उनकी आयु 18 वर्ष पूर्ण न हो जाये अन्यथा घटना घटित होने या अपराध पंजीबद्ध होने पर नाबालिक के साथ-साथ वाहन स्वामी के विरूद्ध भी कार्यवाही हो सकती है। साथ ही बताया कि कोई भी वाहन बिना दस्तावेज के क्रय न करें, क्योंकि यदि उक्त वाहन चोरी का पाया जाता है तो क्रेता कि विरूद्ध भी चोरी के अपराध के संबंध में कार्यवाही की जा सकती है।
             मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री आशीष प्रतापसिंह द्वारा बच्चों के साथ हो रहे घटित अपराधों के सबंध में एवं उनके बचाव के संबंध में विस्तृत जानकारी दी।
             उपरोक्त शिविर के दौरान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष श्री रईस खान, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री आशीष प्रतापसिंह, ग्राम पंचायत के सरपंच राजेन्द्र कुमारी राजेन्द्रसिंह, सचिव श्री कारूलाल राठौर, विद्यालय के प्राचार्य, फ्रंट ऑफिस कॉआर्डिनेटर श्रीमती बरखा सुरागी, उड़ान संस्था से श्रीमती ललिता व सिमरन, विद्यार्थीगण तथा ग्रामीणजन उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन अवधेश कुमार दीक्षित ने किया एवं आभार ग्राम पंचायत सचिव श्री कारूलाल राठौर द्वारा किया गया।
             उपरोक्त अभियान अंतर्गत आज दिनांक दोपहर 02.00 बजे जनपद पंचायत मंदसौर के समस्त ग्राम पंचायत सचिवों के साथ बैठक एवं विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। उपरोक्त शिविर में श्री खान द्वारा उपस्थित जिला मंदसौर के समस्त सचिवों को अभियान की रूपरेखा के बारे में विस्तार से बताया तथा जागरूकता अभियान हेतु 119 टीमों का गठन किया गया इस प्रकार पूर्व से गठित 06 टीम सहित 125 टीम का गठन किया गया है। उक्त शिविर में जिला न्यायाधीश/सचिव श्री रईस खान, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत मंदसौर श्री आर.पी.वर्मा, पंचायत इंस्पेक्टर श्री लोकेश दुबे, ग्राम पंचायत के सचिवगण इत्यादि उपस्थित रहे।