आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम आयोजित किये जाने के संबंध में विभिन्न एन.जी.ओ. संस्थाओं के साथ बैठक सम्पन्न

7:32 pm or September 29, 2021
आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम आयोजित किये जाने के संबंध में विभिन्न एन.जी.ओ. संस्थाओं के साथ बैठक सम्पन्न
महावीर अग्रवाल 
     मन्दसौर २९ सितम्बर ;अभी तक;       राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के दिशा-निर्देशानुसार दिनांक 02.10.2021 से 14.11.2021 तक आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण की कार्ययोजना अनुरूप आयोजित किये जाने हेतु दिनांक 29.09.2021 को माननीय प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर श्री विजय कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में विभिन्न एन.जी.ओ. संस्थाओं के साथ बैठक का आयोजन किया गया।
                  उक्त बैठक में माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर श्री विजय कुमार पाण्डेय द्वारा उपस्थित एन.जी.ओ. के सदस्यगण को कार्ययोजना के बारे में विस्तृत रूप से बताया गया एवं आयोजित होने वाली रैलियों एवं मेगा विधिक जागरूकता शिविरों के आयोजन से भी अवगत कराते हुए उपस्थित एन.जी.ओ. से सुझाव भी आमंत्रित किये गये। उपस्थित एन.जी.ओ. सदस्यों में से कुछ सदस्यों द्वारा आगे आकर गरीबों के कल्याण हेतु अपना स्टाॅल लगाकर, जरूरतमंद लोगों को विभिन्न सामग्रियों का वितरण किये जाने के संबंध में बताया। साथ ही आयोजित होने वाले मेगा शिविरों में प्रशासन के विभिन्न विभागों के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रहे एन.जी.ओ. द्वारा भी अपना स्टाॅल लगाकर, आमजन तक उस क्षेत्र से संबंधित जानकारी का प्रचार-प्रसार किये जाने के संबंध में सहमति दी। आयोजित मीटिंग के दौरान आयोजित होने वाले कैंप में एड्स संबंधी एवं नशा मुक्ति संबंधी व आंखों से संबंधित बीमारियों के ईलाज हेतु मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराये जाने के बिन्दु पर भी विचार किया गया।
            आयोजित मीटिंग में माननीय प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री विजय कुमार पाण्डेय, विशेष न्यायाधीश श्री अनीष कुमार मिश्रा, जिला न्यायाधीश/सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिरिण मंदसौर श्री रईस खान व विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रहें एन.जी.ओ. उपस्थित रहे, जिन्होंने अपने-अपने विचार व्यक्त कर, आयोजित होने वाले विधिक जागरूकता शिविरों को सफल बनाये जाने की अपील की, जिससे कि विधि का प्रसार सामान्य जन में हो सके