आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश ने जिले के 26  युवाओं का तैयार किया टूरिस्ट गाइड के लिए

7:04 pm or March 22, 2021
आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश ने जिले के 26  युवाओं का तैयार किया टूरिस्ट गाइड के लिए
महावीर अग्रवाल
मंदसौर 22 मार्च ;अभी तक;  ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्था मंदसौर के माध्यम से विगत माह जिले के 26 युवाओं को सफलतापूर्वक गाइड एवं टूरिस्म की ट्रेनिंग दी गई थी। जिसमे 02 युवतियां भी शामिल थी। इन युवाओं को ट्रैवल एवं टूरिस्ट गाइड के लिए तैयार किया है। 15 फरवरी से 25 फरवरी तक चले इस प्रशिक्षण में युवाओं को यह सिखाया गया – पर्यटन स्थलों की जानकारी कैसे पर्यटकों को देना है। मंदसौर जिले के महत्वपूर्ण मंदिरों का भी भ्रमण कराया गया। मंदसौर के साथ ही खजुराहो, भीम बैठका, राजस्थान के इतिहास के बारे में भी जानकारी दी गई। इन्हें महाराष्ट्र के नासिक और शिरडी भी भेजा जाएगा। रेडियो कलाकारों के माध्यम से भी युवाओं की ट्रेनिंग कराई जाएगी ताकि वे बेहतर ढंग से बोलना सीख सकें। किस तरह पर्यटकों को आकर्षित करना है, फर्स्ट एड के मूल सिद्धांत, धार्मिक पर्यटन के लाइव डेमो आदि के बारे में बताया गया था। उक्त प्रशिक्षण के पश्चात युवाओं में उत्साह एवं आत्मविश्वास बढ़ा।
                 कलेक्‍टर श्री मनोज पुष्‍प ने बताया कि सभी 26 युवाओं को एक प्रशिक्षित गाइड के माध्यम से व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिलवाया गया। उसे देखकर भी युवाओं ने बहुत कुछ सीखा है। सभी युवाओं को पूरे जिले का भ्रमण भी कराया गया है। जिले से तैयार होने वाले पर्यटक गाइड यहां के अलावा अन्य जिलों में भी रोजगार प्राप्त कर सकेंगे। राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश के खजुराहो, भीम बैठका, महाराष्ट्र के नासिक और शिरडी आदि क्षेत्र में जाकर रोजगार प्राप्त कर सकेंगे।
                  आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत जिले में पर्यटन क्षेत्र को प्राथमिकता पर लिया गया है। इसके तहत प्रमुख पर्यटन स्थलों को विकसित व इनका सुंदरीकरण किया जा रहा है। ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण केंद्र के माध्यम से युवाओं को ‘गाइड एंड टूरिस्ट ट्रेनिंग” दी गई है। इसमें पर्यटकों को आकर्षित करने सहित उन्हें प्रसिद्ध जगहों के बारे में बताने के लिए पूरा इतिहास भी बताया गया है। ये अब मध्य प्रदेश और राजस्थान की के कई पर्यटक स्थलों पर हुनर दिखाने को तैयार हैं। इन्हें आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत प्रशिक्षित किया जा रहा है। पाठशाला में भारत के विभिन्ना क्षेत्रों की अलग-अलग भाषाओं की जानकारी भी दी गई है ताकि गाइड किसी भी राज्य के पर्यटक से बात करें तो उसे अपनापन लगे। अब कुछ दिन बाद गाइडों को विदेशी भाषाओं के प्रमुख शब्द भी सिखाए जाएंगे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *