आदतन अपराधी ने हरसूद पुलिस को दिन भर भटकाया, गुरूवार देर रात साथिी के साथ धरदबोच लिया गया


मयंक शर्मा

खंडवा २० नवंबर ;अभी तक; खंडवा हरदा रोड पर यहां से 40 किलोमीटर दूर ग्राम झुम्मरखाली चैराहे पर गुरुवार सुबह मारपीट व कथित लूट और कुछ देर बाद छनेरा (नया हरसूद) के मुख्य बाजार स्थित एक निजी क्लीनिक से युवक का अपहरण के मामले में हरसूद पुलिस को दिन भर भटकाव के बाद गुस्वार देर  रात अपहरणकर्ताओं को छीपाबड़ के पास से गिरफ्तार कर लिया। अपह्रत युवक भी सुरक्षित है।

अपहरण की घटना को लेकर गुरूवार को आक्रोशित ग्रामीणों ने झुम्मरखाली में चक्काजाम कर दिया था। हरसूद एसडीओपी रविन्द्र वास्कले, प्रभारी टीआई अमित कुमार कोरी ने हालात सामान्य कियें लेकिन इसके एक घंटे बाद ही ग्रामीणों ने हरसूद थाने में डेरा जमा लिया। पीड़ित पक्ष की शिकायत के बाद अपहरण का मामला दर्ज किया गया। फिर भी ग्रामीण आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े रहे।

एडिशनल एसपी प्रकाश परिहार भी  अपरान्ह बाद हरसूद पहुंचे। मौका निरीक्षण के लिये  थाना छोड़ने के लिये ग्रामीणों को उन्होने  राजी किया। इसके 6 घण्टे बाद रात 10  बजे  पुलिस ने अपहरणकर्ताओं को छीपाबड़ के पास से गिरफ्तार कर लिया। अपह्रत कम्पाउण्डी को कैद से मुक्त करा लिया। वह अब सुरक्षित है।

थाना प्रभारी अमित कोरी ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के जरिए पुलिस पडताल में जुंटी। उन्होनेे बताया कि मामले की  वास्तविकता यू सामने आई कि  सुबह 8. बजे के करीब झुम्मरखाली में महाराणा हार्डवेयर के संचालक विपट सिंह पिता लक्ष्मीनारायण पटेल के साथ आरोपी अरविंद पिता नारायण उर्फ टुनमुन, गणेश पिता राधेश्याम उर्फ गन्नू व कमलेश पिता रामसिंह उर्फ बल्लू ने दुकान में घुसकर बुरीतरह पिटाई की।

इस हमले से ं आक्रोशित ग्रामीणों ने खंडवा-होशंगाबाद राजमार्ग पर चक्काजाम कर दिया। ं ग्रामीणों ने आरोपी अरविंद द्वारा शासकीय प्रतीक्षालय पर कब्जा कर ढाबा चलाने व अवैध शराब से अशांति फैलाने को लेकर रोष जताया।
झुम्मरखाली के हमले की घटना में तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 294,323,506,327,442 व 34 में केस दर्ज किया।

इसके कुछ देर बाद हमले के 3 में से  दो आरोपी ने अपहरण को अंजाम दिया और फोन कर क्लीनिक संचालक डाॅ.. आशीष पटेल को धमकी दी।उन्हे फोन पर कहा गया कि सुशील को जिंदा चाहता है तो घोड़ा पछाड़ नदी पर आकर ले जा। वे उसे यहां छोड़ रहे हैं। इस फोन के बाद डॉक्टर के होश उड़ गए। उन्होंने थाने और गांव वालों की ं सूचना दी। इसके बाद ग्रामीण नदी पर पहुंचे। इस बीच हरसूद पुलिस भी पहुंची  लेकिन सुशील वहां नहीं था।  इसकी भीं प्राथमिकी दर्ज कराई गयी।अपहरण के लिये अरविंद उर्फ टुनमुन व एक अन्य कसे नामजद किया गया। इन पर कपांउण्डर सुशील का अपहरण का आरोप था।  धारा 365 का प्रकरण दर्ज कियां

आदतन कुख्यात बदमाश की तलाश में गुरूवार दिन भर मारे मारे भटकती रही।   12 घंटे की मसक्कत के बाद गुरूवार देर रात अपहरणकर्ताओं को छीपाबड़ के पास से गिरफ्तार करने  में पुलिस को कामयाबी मिली। चिकित्सक को फोन हरसूद थाना क्षेत्र के आदतन बदमाश टुनमुन उर्फ अरविंद ने किया था। उसने अपने एक साथी गुड्डू के साथ मिलकर चिकितसक के सहयोगी कंपाउंडर सुशील प्रजापत का अपहरण कर लिया था।

आदतन बदमाश टुनमुन ने कंपाउंडर सुशील पिता जगदीश प्रजापत निवासी सड़िया पानी रोड के मोबाइल से फोन किया था। पुलिस ने ग्रामीणों के साथ पुल के आसपास व नदी में भी सुशील की तलाश की, लेकिन नहीं मिला। इसके पूर्व ग्राम झुम्मरखाली में ं दीपक सिंह की हार्डवेयर की दुकान पर सुबह करीब 8 बजे अरविंद उर्फ टुनमुन अपने दो दोस्त गुड्डू उर्फ गणेश और बबलू के साथ दुकान में घुसंकर हमला कर  मारपीट की। भीड जमा होने पर यहां से ग्रामीणों से छूटकर तीनों आरोपित भाग गए।  इसके बाद वे हरसूद पहुंचे। यहां कंपाउंडर सुशील से उन्होंने रुपयों की मांग की। उसने भी उन्हें रुपये देने से मना कर दिया। इसके बाद वे उसे जबरजस्ती बाइक पर बैठाकर अपने साथ ले गए थे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *