आधा सत्र बीत जाने के बावजूद जिले के सवा लाख छात्र गणवेश से बंचित

8:22 pm or September 18, 2022

दीपक शर्मा

पन्ना,18 सितम्बर,अभीतक
                         प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा जहां एक ओर शिक्षा व्यवस्था सुधारने तथा प्रदेश के विद्यालयों को सीएम राईज स्कूल बनाकर सेंन्ट्रल स्कूलां की तरह विकसित करने की घोषणा की गई है वहीं दूसरी ओर शासकीय विद्यालयो की हालत बदतर है क्योकि संचालन करने वाला तंत्र पूरी तरह से लापरवाह है तथा शासन द्वारा छात्रो को जिन योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है वह समय पर नही मिल रहा है। जिसके लिए कौन दोषी है यह स्पष्ट नही है। सरकार या प्रशासन शासकीय विद्यायलो मे पढने वाले छात्रो को समय से पुस्तके, गणवेश, साईकिले तथा अन्य आवश्यक चीजे उपलब्ध नही हो रही है जिससे छात्रो का भविष्य चौपट है, पन्ना जिले मे अध्ययनरत कक्षा 1 से लेकर 8 तक के लगभग सवा लाख छात्रो को आधा सत्र बीत जाने के बावजूद गणवेश प्रदान नही किये गये है।
                       बेचारे गरीब छात्र फटे कपडे पहन कर विद्यालय पहुच रहे है। ज्ञात हो कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत छात्रो को प्रत्येक वर्ष दो जोडी गणवेश शासन द्वारा उपलब्ध कराये जाते है पूर्व मे यह जिम्मेवारी विद्यालय के शिक्षको की थी तथा शिक्षको के खातो मे राशि डाल दी जाती थी लेकिन विगत दो वर्ष से समूह के माध्यम से गणवेश खरीदी तथा वितरण की योजना लागू की गई जो पूर्ण रूप से फैल है तथा सत्र पूरा हो जाने तक छात्रो को गणवेश उपलब्ध नही हो पाते है इसके लिए आखिर कोन जिम्मेवार है। पन्ना जिले मे भी यही स्थीति बनी हुई है। छात्र छात्राओं को साईकिले देने का भी प्रावधान है लेकिन अभी तक जिले के लगभग एक हजार से अधिक छात्रो को साईकिलो का भी वितरण नही किया गया है। इस प्रकार से जिले मे शासन की योजनाए संचालित हो रही है।
                         इनका कहना हैः-हमारे द्वारा जिले के छात्रो की संख्या की फीडिंग कर दी गई है लेकिन अभी तक गणवेश उपलब्ध नही हुए है और न ही साईकिले उपलब्ध हुई है शासन द्वारा जैसे ही समूहो के माध्यम से गणवेश उपलब्ध हो जायेगी सभी विद्यालयों मे वितरण करा दिये जायेगे तथा साईकिले भी वितरित की जायेगी।
अरविन्द सिंह गौर प्रभारी डीपीसी सर्व शिक्षा अभीयान जिला पन्ना