आधुनिक तकनीकी से खेती करने वाले किसान बेटू लाल ने बनाया लाभ का धंधा

11:41 pm or November 20, 2022

दीपक शर्मा

पन्ना 20 नवंबर अभीतक

जहां आज खेती का धंधा नुकसान का धंधा होता जा रहा है क्योकि लागत लगातार बढती जा रही है। वहीं दूसरी ओर किसान बेटूलाल कुशवाहा द्वारा रिलायंस फाऊंडेशन तथा कृषी विज्ञान केन्द्र की सलाह के अनुसार खेंती कर रहें है तथा साथ ही सब्जी का व्यवसाय कर रहें है जिससे वह दो गुनी कमाई कर रहें हैं भिलासय ग्राम निवासी किसान बेटू लाल ने बताया कि मेरे परिवार मे 6 सदस्य है लेकिन आधुनिक तकनीकी से खेती तथा सब्जी का व्यवसाये करने से अच्छा लाभ हो रहा है। जबकी पूर्व मे कई वर्षो से खेती कर रहे थें लेकिन उसमे कोई लाभ नही हो रहा था। आंगे बेटू कुशवाह ने बताया कि प्रारंभिक शिक्षा पूरी होने के बाद वे आगे की शिक्षा हासिल करना चाहते थे लेकिन परिवार की परिस्थित ने आगे पढ़ने नही दिया। इसके बाद से बेटूलाल ने परिवार के खातिर पिता को खेती में मदद करना शुरू किया। तब से आजतक वे अपने 4 एकड़ की भूमि पर खेती करते आय है।

जिसमें से दो एकड़ में धान गेंहू जैसी फैसले और दो एकड में सब्जी लगाना शुरू किया है। पहले खेती में अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता था, जैसे फसलों में कीट रोग आदि लग जाने पर पूरी फसल खराब हो जाती थीं। इसके बाद से रिलायंस फाउंडेशन से लगातार मदद मिलती आई है जिससे कीट और रोग से फसल को बचा पाना संभव हो सका रिलायंस फाउंडेशन से किसान को नई तकनीक भी सीखने को मिल रहि है जिससे खेती आसान होती जा रही है। इस साल के सत्र की शुरुआत से ही किसान बेटू लाल कुशवाहा डिजिटल फॉर्म स्कूल कार्यक्रम से जुड़कर धान की खेती किए साथ ही उन्होंने अग्रिम गोभी की फसल भी लगाई थी एक समय के बाद दोनो फसलों में क्रमश पत्ती लपेटक और तना बेधक कीट लग गए। किसान ने बताया कि ये दोनो कीट फसल को पूरी तरह चट कर जाते है और किसान को लंबा नुकसान पहुंचा सकते हैं।

किसान ने अपनी यह दोनो समस्या लेकर रिलायंस फाउंडेशन के डिजिटल कार्यक्रम मे जुड़े। जिसके बाद किसान वैज्ञानिक से बात करके अपनी समस्या का निवारण किया। कृषि वैज्ञानिक ने बताया कि प्रोपेनोफास 40 प्रतिशत और साईपरमेथलीन चार प्रतिशत दवा की 400मिली ली मात्रा प्रति एकड़ की दर से घोल बनाकर डालने को कहा। मैंने वैसा ही किया। जिससे कीटो की रोकथाम हुई तथा खेत मे बेहतर गोभी का उत्पादन हुआ। जिसमे 26 हजार की गोभी की कमाई हुईं तथा जो फसल बोई गई है उसमे भी अच्छे पैदावार होने की संभावना है। धान मे भी किसान बेटूलाल को अच्छी कमाई हुई है।