आश्रय स्थल से  दो सगी बहनो के लापता होने को लेकर सनसनी

मयंक शर्मा
खंडवा २५ जून ;अभी तक;  स्थानीय  वन स्टॉप सेंटर से क्रमंशः 13 व 10 साल की दो बालिकाये ं
लापता हो गई है। ये दोनों आपस में सगी बहनें है। पूरे मामले में आश्रय
गृह की सुरक्षा और पुलिस कार्रवाई पर सवाल खडे है।
                  केन्द्र प्रभारी श्रीमति कनोजिया ने बताया कि वन स्टॉप सेंटर का उद्देश्य
एक ही छत के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से
सहायता एवं सहयोग प्रदान करना है। महिलाओं के खिलाफ हिंसा की समस्या के
समाधान के लिए यह केंद्र प्रायोजित योजना के तहत स्थापित है।  अप्रैल
2015 से कार्यरत सस्था मे परिवार के भीतर या कार्यस्थल पर या समुदाय के
भीतर, निजी या सार्वजनिक स्थानों पर होने वाली हिंसा से प्रभावित महिलाओं
का समर्थन करना। विशेष रूप से उन महिलाओं के लिए जो अपनी जाति, पंथ,
नस्ल, वर्ग, शिक्षा की स्थिति, उम्र, संस्कृति या वैवाहिक स्थिति के
बावजूद यौन, शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, भावनात्मक और आर्थिक शोषण का सामना
करती हैं।ऐसर की त्रासदी के बाद बालिकायों को केन्द्र में आश्रय मिला था।
                 मोघट थाना प्रभारी बीआर अटोदे ने बताया कि दोनों फरार बालिकाये आश्रय के
लिए यहां रूकी थी। प्रशासिका की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर मामला
जांच लिया है। उन्होने आंशका जताई कि साजिश के साथ योजनाबद्ध ढंग से
अज्ञात व्यक्ति द्वारा  बहला-फुसलाये जाने से बालिकाये गुरू्रवार दोपहर
के समय  भवन की दीवार फांदकर भाग निकली है।
ं वन स्टॉप सेंटर  प्रभारी सुनिती कनोजिया ने थाना मोघट रोड पर  शिकायत
दर्ज कराई है। लापता बालिकाओ में काजल पिता मुन्ना (13) व उसकी छोटी बहन
ज्योति ा (10) शामिल है।