इमरती तालाब के अतिक्रमणों को हाईकोर्ट में चुनौती, जबलपुर कलेक्टर सहित अन्य को नोटिस

7:32 pm or June 29, 2020

सिद्धार्थ पाण्डेय

जबलपुर २९ जून ;अभी तक;  शहर के 52 ताल-तालाबों में से एक गढ़ा के इमरती तालाब में काबिज अतिक्रमणों व अवैध निर्माणों को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। चीफ जस्टिस एके मित्तल व जस्टिस व्हीके शुक्ला की युगलपीठ ने मामले में अनावेदकों को नोटिस जारी कर जवाब पेश करने के निर्देश दिये है।

यह जनहित का मामला अधिवक्ता विजित साहू की ओर दायर किया गया है। जिसमें कहा गया है कि शहर की सुंदरता में 52 तालाबों का बड़ा योगदान था, लेकिन अतिक्रमणों के कारण शहर अपनी सुंदरता खोता जा रहा है। उन्हीें में से एक गढ़ा पंडा मढिय़ा के समीप स्थित इमरती तालाब है। आवेदक का कहना है कि इमरती तालाब का सौंदर्यीकरण नगर निगम द्धारा किया जा रहा था, लेकिन अवैध निर्माण व अतिक्रमणों के कारण वह पूरा नही हो सका। जिसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई, जिस पर हाईकोर्ट की शरण ली गई है। मामले में राहत चाही गई है कि उक्त तालाब से अतिक्रमण हटाने के निर्देश अनावेदकों को दिये जाये, इसके साथ ही शहर के अन्य तालाबों की रिपोर्ट न्यायालय के समक्ष तलब की जाये। मामले की सुनवाई पश्चात् न्यायालय ने अनावेदकों को नोटिस जारी कर जवाब पेश करने के निर्देश दिये है। याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता ब्रहमेन्द्र पाठक ने पक्ष रखा।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *