ई – रिक्शा का संचालन करने वाली महिलाएं दुविधा में, विद्युत कम्पनी बना रही व्यवसायिक कनेक्शन लेने का दबाव

6:09 pm or June 3, 2022
महावीर अग्रवाल
मंदसौर ३ जून ;अभी तक;  विगत दिनो महिला सशक्तिकरण अभियान के तहत मंदसौर नगर के समाजसेवी प्रदीप गनेडीवाल जी के ट्रस्ट द्वारा मंदसौर नगर की 50 महिलाओं को आजीविका चलाने के लिए ई – रिक्शा भंेट किये गये था। लेकिन अब यह महिलाएं दुविधा में आ गई है क्योंकि विद्युत कम्पनी द्वारा उक्त ई – रिक्शा को चार्ज करने के लिए व्यवसायिक विद्युत कनेक्शन लेने को कहा जा रहा है ऐसा नहीं करने पर कार्यवाही की बात की जा रही है जो कि गलत है।
                         उक्त बात कहते हुए प्रदेश कांग्रेस सचिव और युवा इंटक के जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र कुमावत ने बताया कि नगर के समाजसेवी द्वारा 50 महिलाओं को प्रशिक्षित कर उनकी आजीविका चलाने के लिए ई रिक्शा देकर अनुकरणीय कार्य किया गया था। लेकिन अब भाजपा सरकारी की गलत नीतियों का खामियाजा ऐसे वर्ग को भोगना पड़ रहा है। श्री कुमावत ने बताया कि अभी मंदसौर जैसे छोटे शहर में ई – रिक्शा का चलन बहुत ज्यादा नहीं है। महिलाओं को ई – रिक्शा मिले भी कोई ज्यादा समय नहीं हुआ और आमदानी भी कोई बहुत ज्यादा नहीं हो रही है। ऐसे मे उन पर व्यवसायिक कनेक्शन लेने का दबाव बनाना गलत है। सरकार को यह समझना चाहिए कि ई – रिक्शा कोई आर्थिक रूप से सक्षम व्यक्ति नहीं चला रहा है।
                     श्री कुमावत ने बताया कि घरेलू बिजली कनेक्शन और व्यवसायिक विद्युत कनेक्शन की दरों में बहुत अंतर है ऐसे में ई – रिक्शा संचालित करने वाली महिलाएं व्यवसायिक विद्युत कनेक्शन लेती है तो उन पर अतिरिक्त भार पड़ जायेगा।  प्रदेश की भाजपा सरकार को गरीब वर्ग की ओर ध्यान देकर इस प्रकार के आदेश को वापस लेना चाहिए ताकि मंदसौर में ई – रिक्शा संचालित कर रही महिलाओं एवं अन्य लोगों को राहत मिल सकें। यदि ऐसा नहीं होता है कांग्रेस और युवा इंटक द्वारा जल आंदोलन मंदसौर से लेकर भोपाल तक किया जायेगा।