उमा श्री और शिवराज की जुगल बंदी

6:22 pm or September 21, 2020
उमा श्री और शिवराज की जुगल बंदी

रवीन्द्र व्यास

छत्तरपुर /21 सितम्बर /अभीतक

बीजेपी की फायर ब्रांड नेता उमा भारती बुंदेलखंड से ताल्लुख रखती हैं | अपने  बेबाक  विचारो   के लिए मशहूर उमा  भारती एक दशक से ज्यादा समय के  बाद फिर से  मध्यप्रदेश की सियासत में सक्रीय हो रही हैं | इस बार उन्हें साथ मिल रहा है शिवराज सिंह चौहान का | ये वही चौहान हैं जो अपने सियासी लक्ष्य को पाने के लिए  चूकते नहीं  हैं | इसी के चलते उन्होंने उमा को मध्यप्रदेश के आसपास फटकने नहीं दिया था | अब वही चौहान उमा जी को साथ लेकर चुनावी सभाएं कर रहे हैं  उनका गुण  गान कर रहे हैं | कहते हैं कि राजनीति में हर बात के अपने एक अलग मायने होते हैं |उमा और शिव की इस जुगल बंदी के क्या मायने हैं यह आने वाले दिनों में स्पष्ट हो ही जाएगा

उमा श्री और शिवराज की जुगल बंदी

उमा श्री और शिवराज की जुगल बंदी
उमा श्री और शिवराज की जुगल बंदी

                                          15 सितम्बर को इंजीनियर्स डे के  दिन उमा श्री और शिवराज जी एक अलग ही राजनैतिक इंजीनयरी में व्यस्त थे | इसका नजारा लोगों को छतरपुर जिले के   बड़ामलहरा विधान सभा क्षेत्र के लिधौरा गाँव में  देखने को मिला | मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री ने  यहां होने वाले उप चुनाव को लेकर  चुनावी सभा में अपने कार्यकाल की उपलब्धियों का बखान  किया , यह जतलाने का जतन किया कि जनता का उनसे बड़ा शुभ चिंतक और कोई नहीं है | विरोधी दल पर भी हमला करना चाहिए इसलिए उन्होंने  कांग्रेस के कमलनाथ और दिग्विजय सिंह  को जनता का सबसे बड़ा दुश्मन बताने में कोई कसर नहीं छोड़ी|ये सब तो सियासी संग्राम के  शब्द वाण  थे जो चलते ही रहते हैं | इन सबसे अलग  उमा और शिव के  शब्दों से एकाकार होने के नव राजनैतिक दर्शन से लोग जरूर आश्चर्य  चकित हो गए  |

                                                          सभा में उमा भारती ने शिवराज सिंह चौहान के पुराने रिश्तों का स्मरण करते हुए कहा कि 2003 में कार्यकर्ताओं के बल पर हमने मध्य प्रदेश में सरकार बनाई ,बाद में शिवराज सिंह चौहान मुख्य मंत्री बने | शिवराज सिंह चौहान ने जितनी अच्छी सरकार चलाई उतनी अच्छी में भी नहीं चला सकती थी |1980 के लोक सभा चुनाव में शिवराज  जी द्वारा  उनके चुनाव प्रचार का भी उन्होंने स्मरण कर यह जताने का प्रयास किया कि शिवराज से समबन्ध आज के नहीं बल्कि चार दशक पुराने हैं |  सभा में उन्होंने ज्योतरादित्य सिंधिया को  विजया राजे का एक तरह से पर्याय बताया |

                                                            शिवराज भी उमा जी के महिमा मंडन में कोई चूक नहीं की | उन्होंने उमा जी को देश की राजनीति में बड़ी भूमिका निभाने वाली बताते हुए कहा कि  हमारी माता जी निधन तो  बचपन में ही हो गया था , किन्तु  उमा दीदी से हमें मात्र  वत  स्नेह मिला | दीदी ने ही मध्यप्रदेश से बंटाढार की सरकार को उखाड़ फेंका था | उनके पंचज अभियान पर 15 वर्ष तक मौन रहने वाले शिवराज जी कहने लगे कि सम्बल योजना उनके पंचज अभियान पर ही आधारित है | वे यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा  आत्म निर्भर भारत के लिए आत्म निर्भर मध्य प्रदेश बनाना है उसका ड्राफ्ट आप (दीदी) फाइनल करेंगी | बुंदेलखंड में उद्योग का जाल फेलायेंगे |

    दोनों दिग्गज नेताओं की इन बातों को सुन  बड़ामलहरा के लोगो का आश्चर्यचकित होना स्वाभाविक भी था | उन्हें आज भी याद है कि 2006 के उपचुनाव में ठीक मतदान के दिन उमा भारती को सेरोरा गाँव में घेर लिया गया था | उनके सुरक्षा गार्डों ने किसी तरह से उनकी जान बचाई थी | उस समय भी मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान ही थे | उमा भारती ने 2003 में इसी विधान सभा क्षेत्र से चुनाव जीत कर मुख्य मंत्री  बनी थी ,| लोधी और यादव  बाहुल्य  इस इलाके में उमा भारती  31698  मतों से जीती थी |उनके मुख्य मंत्री बनने और हटने फिर राम रोटी यात्रा निकालने और   अपनी अलग जनशक्ति पार्टी बनाने,  फिर वापस बीजेपी में लौटने की उमा भारती की कहानी काम दिलचस्प नहीं है | इन सब हालातों का गवाह भी बड़ामलहरा  क्षेत्र रहा है |

                   मध्यप्रदेश की 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में कई सीटें लोधी बाहुल्य हैं | भिंड और अशोकनगर जिलों के अलावा छतरपुर जिले की बड़ामलहरा विधान सभा सीट पर भी लोधी मतदाताओं का प्रभाव अच्छा खासा है | ऊपरी तौर  पर तो यही लगता है कि  इन चुनावी सभाओं में अपनी विरादरी के मतदाताओं को लुभाने के लिए शिवराज सिंह चौहान ने उमा भारती का साथ लिया है | सियासत के जानकार कहते हैं कि कहानी सिर्फ इतनी नहीं है इसके पीछे भी कोई बड़ी  सियासी कथा लिखी जा रही है | दरअसल सियासत में जब लोगों के व्यवहार में इस तरह के परिवर्तन देखने को मिलने लगते हैं तो अनेकों तरह के सवाल उठने लगते हैं |

                       बदलते चाल चरित्र और चेहरे को देख लोग उन तमाम चीजों की तलाश में जुट जाते हैं जो इनकी वजह बनते हैं | बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती की उन तमाम बातों का सियासी जानकार विश्लेषण करने में जुट गए हैं | अब कहा जाने लगा कि उमा जी का लोधी वर्ग के विधायकों पर अच्छी खासी पकड़ है , इसी के तहत उन्होंने कांग्रेस विधायक  प्रदुम्न लोधी का विधायक पद से इस्तीफा दिलाकर बीजेपी की ना सिर्फ सदस्यता दिलाई बल्कि नागरिक आपूर्ति निगम का अध्यक्ष बनवाकर केबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिलवाया | इसके पहले उन्होंने मंत्री मंडल में पिछड़े वर्ग की उपेक्षा पर नाराजगी भी जताई थी | राजनैतिक तौर पर देखा जाए तो उमा जी ने यह सन्देश पार्टी और सरकार को दिया है कि मध्य प्रदेश में पिछड़े वर्ग पर उनकी पकड़ कमजोर नहीं हुई है | दूसरा इस बड़े वोट बैंक के बहाने वे फिर से मध्य प्रदेश की राजनीति में वापस आना चाहती हैं |

                            पार्टी के आंतरिक सूत्रों की माने तो उमा जी मध्यप्रदेश की ऐसी नेता हैं जिन्हे आर एस एस द्वारा भी सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है | विष्णु दत्त शर्मा को प्रदेश अध्यक्ष बनाये जाने के समय भी उमा जी की सहमति ली गई थी जब कि इस मसले पर शिवराज के सुझाव को अनदेखा किया गया था | संगठन में उमा जी की पकड़ बनने के बाद उनके कई समर्थकों को संगठन में अहम् पद मिले | मध्यप्रदेश की राजनीति में उमा जी को फिर से सक्रीय करने के लिए पार्टी का एक बड़ा वर्ग लगा हुआ है | यही कारण है कि उमा भारती के फिर से बड़ामलहरा चुनाव लड़ने की चर्चाएं जोरों पर हैं | कहा तो यह भी जा रहा है कि एन  वक्त पर उमा जी को बड़ा मलहरा से चुनावी रण में उतार सकती हैं | इन सब हालातों से वाकिफ शिवराज ने उमा दीदी से सम्बन्ध बेहतर रखने में ही भलाई समझी |

 राजनीति के इस संग्राम में सच और झूठ भी चलता ही रहता है | अब शिवराज जी को ही देख लें वे कहते हैं कि आत्म निर्भर भारत के लिए आत्म निर्भर मध्य प्रदेश बनाना है उसका ड्राफ्ट आप (दीदी) फाइनल करेंगी | बुंदेलखंड में उद्योग का जाल फेलायेंगे | जबकि 11  अगस्त 2020 को  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने  4 दिवसीय वैबिनार के समापन सत्र को संबेधित करते हुए  कहा था  कि प्रधानमंत्री     नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत को साकार करने के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप तैयार किया जा रहा है।  4 दिवसीय वैबिनार में महत्वपूर्ण सुझाव प्राप्त हुए हैं। इन सुझावों को शामिल कर रोडमैप को अंतिम रूप देने के लिए प्रदेश के मंत्रियों के समूह गठित किए जा रहे हैं। मंत्री समूह अपना ड्राफ्ट 25 अगस्त तक प्रस्तुत कर देंगे। इस ड्राफ्ट पर नीति आयोग के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श उपरांत 31 अगस्त तक आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप को अंतिम रूप दे दिया जाएगा तथा एक सितम्बर से इसे आगामी 3 वर्ष के लक्ष्य के साथ प्रदेश में लागू कर दिया जाएगा। दोनों ही स्थितियों में कोई एक जगह तो झूठ बोला जा रहा है |  

                       इन तमाम सियासी हालातों में उमा जी को आर आर एस एस और  प्रदेश अध्यक्ष का भरपूर साथ मिल रहा है | ऐसे समय में वे एक बार फिर से विधायक बन कर मध्यप्रदेश की राजनीति में सशक्त उपस्थिति दर्ज करा सकती हैं | जिसकी सम्पूर्ण रूप रेखा तैयार बताई जा रही है | अब देखना ये होगा की उमा का अभियान सफल हो पाता  है  अथवा शिवराज का दांव सफल होता है |

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *