एकीकृत विश्वविद्यालय प्रबंधन प्रणाली को निरस्त करने के संबंध में अभाविप द्वारा राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया

5:46 pm or October 17, 2020
एकीकृत विश्वविद्यालय प्रबंधन प्रणाली को निरस्त करने के संबंध में अभाविप द्वारा राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया
महावीर अग्रवाल 
मन्दसौर १७ अक्टूबर ;अभी तक;  मध्य प्रदेश की सभी 21 शासकीय विश्वविद्यालयों की कार्यप्रणाली को डिजिटल मोड ऑटोमेशन में लाने के उद्देश्य से एकीकृत विश्वविद्यालय प्रबंधन प्रणाली लागू की जा रही है इस प्रणाली के माध्यम से प्रदेश के 24 लाख विद्यार्थियों का अकादमिक डाटा विश्व विद्यालय के समस्त कर्मचारी और प्राध्यापकों का रिकॉर्ड एक ही प्लेटफार्म पर एकत्रित होगा साथ ही विश्वविद्यालय के दिन प्रतिदिन की गतिविधियां परीक्षा नियंत्रण सिस्टम और अकाउंट भी इसके दायरे में आ जाएंगे।
                         नगर मंत्री आशुतोष रामावत ने बताया कि विश्वविद्यालय की गतिविधियों को डिजिटल मोड में लाना और ऑटोमेशन में लाना एक स्वागत योग्य कदम है लेकिन जिस तरीके से आईयूएमएस क्रियान्वित किया जा रहा है तथा विद्यार्थियों और विश्वविद्यालय प्रशासन से संबंधित सभी गतिविधियों को नियंत्रित के उद्देश्य से सभी तरह की सूचनाओं को एक ही प्लेटफार्म पर केंद्रित किया जा रहा है इसे लेकर सवाल खड़े हो गए हैं इस प्रणाली के कारण विसंगतियां पैदा होगी और विश्वविद्यालय व्यवस्था प्रभावित होगी महत्वपूर्ण यह है कि यह प्रणाली शिक्षा नीति की मूल भावना के विपरीत है सभी विश्वविद्यालयों की व्यवस्था को केंद्रित करना सूचनाओं को एक ही जगह एकत्रित करना अव्यावहारिक और अनावश्यक कदम है इसमें डाटा हैकिंग से संबंधित कई बड़े खतरे हैं विश्वविद्यालयों का नियंत्रण एक विश्वविद्यालय के पास रहेगा तो एकाधिकार की समस्या रहेगी छात्रों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ेगा आदि अनेक बिंदुओं का ज्ञापन के माध्यम से राज्यपाल के नाम कलेक्टर महोदय को ज्ञापन दिया जिसमें विभाग संयोजक पवन शर्मा,जिला सहसंयोजक कृष्णकांत सेन, जिला SFD प्रमुख शुभम जैन, दशपुर भाग संयोजक लोकेश गुर्जर, नगर मंत्री आशुतोष रामावत, ललित पाटीदार, लवेश ब्रिजवानी, रवि राणा, सागर सोनी, निखिल भंडारी, मयंक बोराना, लॉ कॉलेज परिसर मंत्री कृष्णा यादव, वैभव सिसोदिया, मुकेश चौहान, राधे गोस्वामी, धर्मेंद्र सिंह राठौड, रविन्द्र सिंह, अजय सेन, विजय पाटीदार, रवि रातड़िया, देवांशु शर्मा, महेश धनगर, शुभम परिहार, शांतिलाल धनगर, शैलेंद्र चंदेल, लखन लश्कर आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे उक्त जानकारी कार्यालय मंत्री रविन्द्र सिंह ने दी

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *