एशिया की प्रथम महिला ट्रक ड्राइवर के रूप में विश्व रिकॉर्ड गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करवा कर मंदसौर के गौरवशाली इतिहास में अपनी अविस्मरणीय यादगार छोड़ गई

महावीर अग्रवाल 
मन्दसौर १८ नवंबर ;अभी तक;  परम आदरणीय सुश्री पार्वती आर्य 17 नवंबर को अपनी नश्वर देह को त्याग कर पंचतत्व में विलीन जरूर हो गई है परंतु उनकी एक ऊर्जावान उत्साही दबंग निर्भीक युवक की तरह महिला जगत को सम्मानित करने वाली एक सफल महिला की छवि के रूप में स्मृति सदैव बनी रहेगी।
                 राजनीतिक क्षेत्र में जहां आपने एक कुशल राजनीतिज्ञ की तरह अपने को स्थापित कर कांग्रेस को अविभाजित मंदसौर जिले के समय सुवासरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक के रुप में जीत दिलाई थी वही आपकी सामाजिक और धार्मिक क्षेत्र में भी सम्मानित छवि थी। धर्म के प्रति आपकी पूर्ण निष्ठा श्रद्धा थी मालवा माटी के महान संत श्री कमलकिशोर जी नागर की आप परम भक्त थी और इसीलिए आपके अनुरोध पर प्रथम बार पूज्यश्री नागर जी द्वारा जग्गाखेड़ी मंदसौर में सप्त दिवसीय विशाल स्तर पर संगीतमय सप्त दिवसीय भागवत कथा का आयोजन हुआ था जिसमें नगर के अलावा बहुत दूर-दूर से हजारों की संख्या में श्रद्धालुओँने  एकत्रित होकर कथा श्रवण का लाभ लिया था।
                सुश्री आर्य का मंदसौर को गौरव दिलाने का अविस्मरणीय प्रसंग उस समय उपस्थित हुआ जिस समय उन्होंने एशिया की प्रथम महिला ट्रक ड्राइवर होने का विश्व रिकॉर्ड गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करवा कर आप महामहिम तत्कालीन राष्ट्रपति श्री ज्ञानी जेलसिंह से राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित हुई।
               सुश्री आर्य के स्वर्गवास होने पर पतंजलि योग एवं भारत स्वाभिमान संगठन जिला इकाई मंदसौर की ओर से पतंजलि योग गुरु बंशीलाल टांक ने आर्य की आत्मा को अपने चरणों में स्थान देने तथा शोकाकुल परिवार को आर्य के वियोग जनित  दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना के साथ ही हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित की है।