ऐष डैम फूटने से पूरा क्षेत्र हुआ तबाह, हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर मांगा जबाव

9:22 pm or June 29, 2020
सिद्धार्थ पाण्डेय
जबलपुर २९ जून ;अभी तक;  सिगंरौली स्थित सासन अल्टा मेगा पावर प्रोजेक्ट के ऐश डैम फूटने के कारण मची तबाही को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। याचिका में मांग की गयी थी कि प्रभावित व्यक्तियों को मुआवजा प्रदान किया जाये। इसके अलावा अंडर वाॅटर लेवर की जांच करवाई जाये। हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ए के मित्तल तथा जस्टिस व्ही के षुक्ला की युगलपीठ ने याचिका की सुनवाई करते हुए अनावेदकों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।
                 याचिकाकर्ता सुदीप सिंह सैनी की तरफ से दायर की गयी याचिका में कहा गया था कि देष के चार पावर प्लाॅट में एक सिगंरौली स्थित सासन अल्टा मेगा पावर प्रोजेक्ट का ऐष डैम 10 अप्रैल को फूट गया था। जिसके कारण पूरे क्षेत्र में भारी तबाही मची थी। ऐष डैम फूटने के कारण 6 व्यक्तियों की मौत हुई थी तथा सैकडो की संख्या में मवेषी बह गये थे। किसानों की फसल तबाह हो गयी थी और लोगों के घरों क्षतिग्रस्त हो गये थे।
                  याचिका में कहा गया था कि भरी तबाही के बावजूद भी पीडितों को मुआवजा नहीं मिला है। ऐष डैम कमजोर होने के संबंध में जिला प्रषासन ने संबंधित कंपनी से पत्राचार भी किया था। कंपनी ने अपने डैम को मजबूत बताकर लोगों की जान व माल के साथ से खिलवाड किया। याचिका में मांग की गयी थी कि जिन व्यक्तियों की मौत हुई है उनके परिवार को 20 लाख रूपये तक नौकरी कंपनी प्रदान करें।
                  फसल का नुकसान होने के एवज में पीडित किसानों को दस लाख रूपये कंपनी मुआवजे दें। कंपनी द्वारा केमिकल का उपयोग किया जाता था,इसलिए अंडर वाटर लेवर की जांच की जाये। याचिका में प्रदेष सरकार प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड,कलेक्टर सिगरौली तथा पाॅवर प्लाॅट को अनावेदक बनाया गया था। याचिका की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने अपना पक्ष स्वंय रखा।

 

 

 

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *