ओंकारेश्वर नगर परिषद पर भाजपा का कब्जा बरकरार

9:46 pm or January 23, 2023

मयंक शर्मा

खंडवा 23 जनवरी अभीतक । जिले की ओंकारेश्वर नगर परिषद पर भाजपा का कब्जा बरकरार रहेगा। 15 वार्डों के लिए हुइ्रमतगण्ना में  भाजपा के 9 पार्षद विजयी हुए हैं । कांग्रेस को 6 वार्डों में सफलता मिली है। वार्ड क्रमांक 12 में कांग्रेस और भाजपा के प्रत्याशी को बराबर मत मिलने से यहां पर्ची डालकर फैसला हुआ। जो कांग्रेस के पक्ष में रहा।यहजानकारी निर्वाचन अधिकारी राजेश पाटीदार ने दी।

चुनाव परिणामों से भाजपा खेमे में हर्ष है ।भाजपा के वरिष्ठ नेता सुबह से ही यहां डेरा डाले हुए थे  ं । चुनाव परिणामों के अधिकृत घोषणा के पहले ही बधाई और ढोल ढ़माकों का सिलसिला शुरू हो गया है ।इस चुनाव में भाजपा से सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल और मांधाता विधायक नारायण पटेल की साख दांव पर लगी हुई थी। पार्षदों के परिणाम आने के बाद अब अध्यक्ष को लेकर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है।

ओंकारेश्वर नगर परिषद में अध्यक्ष पद अनुसूचित जनजाति महिला के लिए आरक्षित है। 1997 में सर्वप्रथम पिछड़ा वर्ग की महिला अध्यक्ष माया बाई सुंदरलाल अध्यक्ष बनी थी। 2002 में कांग्रेस के राव शैलेंद्रसिंह, 2007 में भाजपा के नत्थू सिंह दरबार, 2012 में कांग्रेस की माया बाई जीवन सिंह तथा 2017 में भाजपा के अंतरसिंह बारे नगर परिषद के अध्यक्ष रहे। 2023 में फिर भाजपा की परिषद बनना लगभग तय हो गया है।

वर्तमान में परिषद चुनाव में चुने जाने वाले पार्षदों द्वारा अनुसूचित जनजाति वर्ग की महिला अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा। चुनाव में भाजपा के नेता परिषद पर अपना कब्जा बरकरार रखने तो कांग्रेस कब्जा करने के लिए बेताब थी। इस चुनाव में भाजपा सांसद ज्ञानेश्वर पाटील और मांधाता विधायक नारायण पटेल की प्रतिष्ठा दाव पर थी। वहीं कांग्रेस से मांधाता के पूर्व विधायक राजनारायण सिंह ,उत्तमपाल सिंह की साख दाव पर लगी हुई थी।