ओबीसी आरक्षण पर भाजपा-कांग्रेस आमने सामने

8:51 pm or May 13, 2022
।।दीपक शर्मा पन्ना।।
पन्ना १३ मई ;अभी तक;  मध्य प्रदेश में ओबीसी आरक्षण के मुद्दे का पारा दिनोदिन बढ़ता जा रहा है। कांग्रेस इस मुद्दे को भुनाने की कोसिस कर रही है।तो वही भाजपा इसमें कांग्रेस की गलती बता रही है। मध्यप्रदेश में चूकी पंचायत-नगरीय चुनाव होना है।ऐसे में दोनो पार्टियां ओबीसी को साधने के लिए लगी हुई है। इस मुद्दे को लेकर पन्ना में आज एक ही दिन में भाजपा और कांग्रेस दोनो पार्टियों द्वारा अलग-अलग प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ओबीसी बोटरों को साधने के लिए ओर उन्हें भरोसे में लेने के लिए कोशिश की गई।भाजपा सरकार की ओर से जहां मध्य्प्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने ओबीसी आरक्षण के संबंध में अपने सिविल लाइन स्थित कार्यालय में पत्रकारों से रूबरू होते हुए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा ओर कह- की कांग्रेस जनता को बरगलाने का काम कर रही है।क्योंकि उसके पास कोई मुद्दा ही नही है।श्री सिंह ने कहा कि मध्य्प्रदेश की भाजपा सरकार रिब्यू पिटीशन की तैयारी कर रही है और हम रिब्यू पर जाएंगे।सरकार वैधानिक प्रक्रिया के तहत कार्य करेगी।हम ओबीसी के आरक्षण के पक्ष में है। साथ ही उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी द्वारा 27℅ से ज्यादा ओबीसी वर्ग के नेताओं को टिकट दी जाएगी।
                      मध्यप्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव लगभग तीन सालों से टलते हुए अब सरकार के गले की फांस बनती नजर आ रही हैं। एक ओर भाजपा स्वयं को ओबीसी का हितैषी बता रही है।तो वहीं कांग्रेस भी पीछे नही है।दोनो दल ओबीसी आरक्षण के पेंच अब सुलझा नही पा रहे है।क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने मप्र में बगैर ओबीसी आरक्षण के चुनाव प्रक्रिया कराने के लिए चुनाव आयोग को दो हफ्ते का समय दिया है।ऐसे में अब मध्यप्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा अपने ब्यान दे चुके है।वही बीजेपी के द्वारा ओबीसी आरक्षण मामले में फसे पेंच को सुलझाने एवं जनता को ओबीसी हितैसी कौंन है यह समझाने के लिए मंत्रियों को जिम्मेदारी सौपी गई है।जिसको लेकर पन्ना विधानसभा से विधायक एवं सरकार में कैबनेट मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह द्वारा पन्ना में प्रेश कॉन्फ्रेंस आयोजित करते हुए बताया कि सरकार ओबीसी के 27 ℅ आरक्षण के पक्ष में है।लेकिन न्यायालय के आदेश का पालन करते हुए चुनावी प्रक्रिया करवाने के लिए सरकार तैयार है।
                     ओबीसी मुद्दे को केस करने के लिए कांग्रेस भी पीछे नहीं है वह भी मध्यप्रदेश में एड़ी चोटी का जोर लगाए हुए है।पन्ना में आज ही कांग्रेस की ओर से गुन्नौर विधायक शिव दयाल बागरी एवं कांग्रेस जिला अध्यक्ष शारदा पाठक सहित ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया के माध्यम से जनता तक अपनी बात पहुंचाने के लिए जोर लगाया जिसमें उन्होंने भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए यह आरोप लगाया कि भाजपा सरकार  सुप्रीम कोर्ट पर अपना मजबूत पक्ष नहीं रख पाई है जिसकी वजह से ओबीसी को आरक्षण नहीं आया और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आप त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव बिना ओबीसी आरक्षण के ही कराए जाएंगे वही कांग्रेस पार्टी इसे भाजपा का षड्यंत्र बता रही है।
आगामी चुनाव पर दोनो पार्टियों की नजर
—————————————————-
                        मध्यप्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव सर पर रखे है। तो वहीं 2023 में बिधानसभा चुनाव है और 2024 में लोकसभा चुनाव होना है।जिसके मद्देनजर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां ओबीसी वोट बैंक को लुभाने और उसे अपने पक्ष में करने में जुट गई है लेकिन यह वक्त बताएगा कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ओबीसी का यह मुद्दा किस करवट बैठेगा।
इनका है कहना:-
                     मध्य्प्रदेश की भाजपा सरकार रिब्यू पिटीशन की तैयारी कर रही है और हम रिब्यू पर जाएंगे।और वैधानिक प्रक्रिया के तहत सरकार कार्य करेगी।हम ओबीसी के आरक्षण के पक्ष में है। साथ ही उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के द्वारा 27℅ से ज्यादा ओबीसी वर्ग के नेताओं को टिकट दी जाएगी।
बृजेन्द्र प्रताप सिंह (कैबिनेट मंत्री)
                     हमारी कांग्रेस पार्टी ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण देने के पक्ष में है और हमारी ओर से इसके लिए प्रयास किया गया लेकिन भाजपा ने षड्यंत्र पूर्वक कोर्ट में अपना पक्ष ठीक से नहीं रखा जिसकी वजह से ओबीसी को आरक्षण नहीं मिल सका ओबीसी के आरक्षण के लिए हम जनता के बीच जाएंगे।
श्रीमती शारदा पाठक
जिलाध्यक्ष,जिला कांग्रेस कमेटी,पन्ना