कलशयात्रा निकालने पर 17 लोगों पर एफआईआर, पटवारी व सचिव निलंबित

अरुण त्रिपाठी
रतलाम,5 जून ;अभी तक;  कोरोना महामारी अभी खत्म नहीं हुई है। प्रशासन ने इसका संक्रमण रोकने के लिए सभी प्रकार के सार्वजनिक, धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध लगा रखा है, लेकिन रतलाम जिले के ग्रामीण क्षेत्र के इसके बावजूद बरबोदना गांव में कलश यात्रा औ अन्य आयोजन कर दिए  गए। पुलिस ने इस पर 17 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। कलेक्टर ने ग्राम के पटवारी और पंचायत सचिव को निलंबित कर दिया है, जबकि एसपी ने बीट प्रभारी को लाइन अटेच किया है।
                 नामली थाना प्रभारी वीपी सिंह ने बताया कि दीपक पितया जगदीश राणा की सूचना पर ग्राम बरबोदना के  17 व्यक्तियों के विरुद्ध भादंवि की धारा 188,269,270, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 बी और महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3 व 4 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। आरोपियों में कलशयात्रा समिति के सदस्य,  पंडित, डीजे वाहन का चालक और टेंट हाउस मालिक शामिल है। कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि ग्राम पंचायत के सचिव तथा पटवारी को निलंबित कर दिया है। इसी तरह एसपी गौरव तिवारी ने नामली थाना से उक्त बीट के प्रभारी को लाइन अटेच कर दिया है।
                  बताया जाता है कि रतलाम से करीब 20 किलोमीटर दूर स्थित नामली थाना क्षेत्र के गांव बरबोदना में ग्रामीणों ने   हनुमान मंदिर पर 5 दिवसीय धार्मिक आयोजन किया। गांव के मुख्य मार्ग से इसके तहत गुरूवार को गंगाजल कलश  निकाली गई, जिसमें सैकडों लोगों की भीड़ के शामिल होने का वीडियो सोश्यल मीडिया पर वायरल हो रहा था। जिला और पुलिस प्रशासन इस पर हरकत में आया। शुक्रवार को डिप्टी कलेक्टर कृतिका भीमावद, तहसीलदार मुकेश सोनी, एसडीओपी संदीप कुमार के साथ नामली थाना प्रभारी वीपी सिंह ने दल सहित गांव पहुंचकर आयोजन के मददेनजर कोरोना संक्रमण फैलने के डर से गांव की सीमाएं सील की। कार्यक्रम में शामिल भीड़ को दृष्टिगत रखते हुए घर-घर जाकर ग्रामीणों के स्वास्थ्य की जांच कराई जा रही है।