कलेक्टर को विधायक रामबाई ने सुनाई खरी-खोटी, कहा कुर्सी पर बैठने लायक नहीं यह कलेक्टर 

8:56 pm or September 30, 2022
सुनील गौतम
दमोह ३० सितम्बर ;अभी तक; अपनी कार्यप्रणाली के लिए हमेशा ही चर्चाओं में रहने वाली बहुजन समाज पार्टी की पथरिया विधायक श्रीमती रामबाई परिहार अपने विधानसभा क्षेत्र के नरसिंहगढ़ में आयोजित होने वाले मुख्यमंत्री जन सेवा शिविर में जब खाद्य विभाग से जुड़ी हुई अनेक समस्याओं की बात सामने आने पर खाद्य विभाग के किसी भी अधिकारी के उपस्थित ना होने की स्थिति में आपत्ति दर्ज की थी और संबंधित क्षेत्र की खाद्य निरीक्षक दीक्षा गुप्ता से बात करने पर भी उन्होंने स्पष्ट रूप से जवाब ना देने पर विधायक रामबाई नरसिंहगढ़ क्षेत्र की अनेक बुजुर्ग महिलाओं को लेकर कलेक्ट्रेट कार्यालय सरपंच पति के साथ पहुंच गई और जब उन्होंने इस संबंध में कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य से बात की तो कलेक्टर ने सभी को नियम पूर्वक जो भी प्रक्रिया है उसके तहत लाभ दिलाए जाने की बात कही और कहा कि यदि इसमें संबंधित अधिकारी कहीं दोषी होगा तो उसके विरुद्ध भी कार्यवाही की जाएगी।
                       लेकिन इन सभी बातों से विधायक रामबाई संतुष्ट नहीं हुई और उन्होंने कलेक्टर को खरी-खोटी सुनाते हुए यहां तक कह दिया कि तू कलेक्टर की कुर्सी पर बैठने लायक नहीं हैं और यहां तक कह दिया कि आप कलेक्टर हो कि ढोर हो,आप बेवकूफ हो ।इन कलेक्टर का  बैंड बजवा दूंगा।
                               उन्होंने  पत्रकारों से चर्चा करते हुए यह भी कहा कि यदि कुछ देर और रुकते तो परिस्थितियां कुछ भी निर्मित हो सकती थी इस प्रकार की परिस्थिति कलेक्ट्रेट में निर्मित होने पर जब काफी कलेक्टर से तू तू मैं मैं हो गई तो कलेक्टर अपने चेंबर में वापस चले गए। उन्होंने किसी भी प्रकार की कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की। जबकि विधायक श्रीमती रामबाई कलेक्टर के संबंध में अनेक अपशब्दों का उपयोग करते हुए बाहर आ गई।
                      इस संबंध में विधायक रामबाई का कहना है कि जहां एक और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आम जनता के लिए प्रतिदिन कलेक्टरों से बात कर रहे हैं और प्रभारी मंत्री द्वारा भी बैठक के दौरान निर्देश दिए गए थे। उसके बाद भी कलेक्टर द्वारा सभी प्रकार के कार्यों में नियमों की बात की जाती है। मुख्यमंत्री को ऐसे कलेक्टर को कुर्सी पर नहीं बैठाना चाहिए जो कि किसी काम के ही ना हो। असहाय लोगों को किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मिल रही है अब ऐसी परिस्थितियों में क्या नियम है,अधिकारी मिलते ही नहीं है।

on Android