कलेक्टर डॉ मिश्रा ने तहसीलदार के रीडर को निलंबित करने के निर्देश

आनंद ताम्रकार

बालाघाट १५ सितम्बर ;अभी तक; कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने आज 15 सितंबर को किरनापुर एसडीएम कार्यालय, तहसील कार्यालय एवं जनपद पंचायत कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया और कार्यालय की व्यवस्था को देखा। इस दौरान किरनापुर एसडीएम सुश्री निकिता सिंह मंडलोई, लांजी एसडीएम एवं किरनापुर जनपद के प्रभारी सीईओ श्री रविन्द्र परमार भी मौजूद थे।

कलेक्टर डॉ मिश्रा ने आकस्मिक निरीक्षण के दौरान राजस्व प्ररकणों के निराकरण की स्थिति की जानकारी ली । इस दौरान उन्होंने एसडीएम एवं तहसील कोर्ट में चल रहे प्रकरणों, फौती नामांतरण के प्रकरण, दायरा पंजी एवं स्थापना शाखा के कार्यों को देखा। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि राजस्व प्रकरणों के निराकरण में गंभीर लापरवाही बरती जा रही है। तीन पटवारी संकेत राणे, तोपेश दमाहे एवं और किशोर सोनी के पास फौती एवं नामांतरण के प्रकरण अधिक संख्या में और काफी दिनों से लंबित है। इस पर कलेक्टर डॉ मिश्रा ने इन तीनों पटवारियों को उनकी दो वेतन वृद्धि रोकने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं ।

फौती एवं नामांतरण के प्रकरणों के निराकरण में लापरवाही बरतने के लिए तहसीलदार के रीडर श्री के एल राणे को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के निर्देश दिए गए हैं । इसके साथ ही तहसीलदार किरनापुर श्री आर पी मार्को को भी कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए हैं कि क्यों न उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाये। तहसील कार्यालय की स्थापना शाखा के निरीक्षण के दौरान पाया गया कि कानूनगो लिपिक द्वारा पटवारियों की सेवा पुस्तिका का सही संधारण नहीं किया गया है और उनमें बहुत सी प्रविष्ठियां छूटी हुई है। कलेक्टर डॉ मिश्रा ने इस स्थिति पर नाराजगी जाहिर की और कानूनगो लिपिक को अपने कार्य में सुधार लाने कहा।

कलेक्टर डॉ मिश्रा ने जनपद पंचायत किरनापुर के निरीक्षण के दौरान संबल योजना में अंत्येष्टि सहायता, परिवार सहायता, पेंशन के आवेदन, शौचालय निर्माण, प्रधानमंत्री आवास योजना, मनरेगा के कार्यों के बारे में जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने जनपद पंचायत कार्यालय परिसर की सफाई करने एवं उसे स्वच्छ बनाये रखने के निर्देश दिये।