कलेक्टर ने बरखेड़ा लोया में दूषित पानी के संबंध में औचक निरीक्षण किया

8:18 pm or October 28, 2022
महावीर अग्रवाल
 मंदसौर 28 अक्टूबर ;अभी तक;  कलेक्टर श्री गौतम सिंह ने गांव बरखेड़ा लोया में नदी के पानी के दूषित होने से गांव के लोगों के बीमार होने की सूचना पर तत्काल मौके पर पहुंचकर क्षेत्र का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने पीएचई विभाग को तत्काल निर्देश देते हुए कहा कि मंदिर के पास में तुरंत बोरिंग लगाए। जिससे गांव वाले शुद्ध पानी पी सके। वर्तमान में दूषित पानी को पूरी तरह से रोक दिया गया है। गांव वालों को पानी पीने के लिए दूर से पानी टैंकर के माध्यम से मंगवाया जा रहा है तथा पेयजल की व्यवस्था की जा रही है। सभी गांव वालों को टेबलेट एवं पीएचई के द्वारा आवश्यक घोल एवं केमिकल्स जिसे पानी शुद्ध होता है, प्रदान कर दिए है। पीएचई विभाग ने सभी कुएं, बावड़ी एवं पेयजल के अन्य स्त्रोत्र से पानी के सैंपल लिए हैं। पानी की टेस्टिंग की जा रही है। आगामी 1 या 2 दिन में किस वजह से पानी दूषित हुआ है, इसके बारे में पता चल जाएगा। निरीक्षण के दौरान सीईओ जिला पंचायत, गरोठ एसडीएम, पीएचई विभाग, चिकित्सा विभाग, सीईओ जनपद सहित जनप्रतिनिधि मौजूद थे।
                               कलेक्टर ने एसडीएम, डॉक्टर एवं नायब तहसीलदार को निर्देश देते हुए कहा है कि रोजाना गांव का भ्रमण करें तथा पेयजल की व्यवस्था को देखें। दूषित पानी को लेकर किसी प्रकार की कोई समस्या न हो। अगर किसी व्यक्ति को कुछ समस्या होती है तो, डॉक्टर उस व्यक्ति का तुरंत इलाज करें। पूर्व में भी क्षेत्र के एसडीएम, नायब तहसीलदार द्वारा सतत भ्रमण किया जा रहा है।
                              कलेक्टर ने सभी गांव वालों को एहतियातन बरतने की सलाह दी हैं। उन्होंने विशेष तौर पर कहा है कि गांव में बुजुर्ग एवं छोटे बच्चों का ज्यादा ध्यान रखें। गांव वालों के द्वारा गांव में फिल्टर प्लांट लगाने की मांग की गई है। इस पर कलेक्टर ने कहा है कि 40 लाख रुपए की लागत का फिल्टर प्लांट गांव में लगाने के लिए कल ही प्रस्ताव बनाकर मध्यप्रदेश शासन को भेजा जाएगा। जिससे जल्द गांव में फिल्टर प्लांट लग सके।
                         गांव में दूषित पानी पीने से 32 लोग ज्यादा बीमार हुए थे, जिनका इलाज करने के पश्चात अब वे ठीक है तथा स्वास्थ्य है। कुल 100 लोग दूषित पानी पीने से बीमार हुए थे। अब सभी लोग ठीक है। किसी भी की भी हालत गंभीर नहीं है। अब वहां पर एक डॉक्टर भी लगातार भ्रमण करते रहेंगे।