कांग्रेस के ढाई साल के कुशासन में अपराधगढ़ बना प्रदेश-रामविचार नेताम

9:30 pm or June 12, 2021
कांग्रेस के ढाई साल के कुशासन में अपराधगढ़ बना प्रदेश-रामविचार नेताम

राजेंद्र तिवारी

जगदलपुर १२ जून ;अभी तक;  पूर्व मंत्री एवं भाजपा के राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम ने कहा है कि कांग्रेस के ढाई साल के कुशासन में शांति का टापू कहलाने वाला छत्तीसगढ़ अब अपराधगढ़ में बदल गया है। मौजूदा कांग्रेस सरकार ने प्रदेश को अराजकता और अत्याचार का पर्याय बना दिया है। यहां रोज औसतन 7 बलात्कार की घटनाएं हो रही है। शासन के ही आंकड़े के अनुसार बीते 02 वर्ष में छत्तीसगढ़ में 1828 हत्या, 1281 हत्या के प्रयास, 4939 बलात्कार, 12862 चोरी, 133 डकैती और 855 लूटपाट के मामले दर्ज हुए है। इनके अलावा पता नहीं कितने आपराधिक मामले ऐसे होंगे जो दर्ज नहीं हो पाये है।जानलेवा कोरोना महामारी से प्रदेश की जनता को बचाने केन्द्र सरकार से मिली जीवन रक्षक वैक्सीन में 30 प्रतिशत से अधिक टीके को बर्बाद करने का कलंक भी इस कांग्रेस सरकार के माथे पर है।

आज भाजपा जिला कार्यालय में पत्रवार्ता को संबोधित करते हुए राज्यसभा सांसद श्री नेताम ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार का आधा कार्यकाल खत्म हो चुका है। ढाई साल का यह कालखण्ड प्रदेश की जनता से किये गये सभी वायदे को तोड़ने, विश्वासघात व अराजकता के काले अध्याय के रूप में जाना जायेगा। पूर्ण शराबबंदी करने के लिये पवित्र गंगाजल की कसम खाने वाली कांग्रेस सरकार कोरोना महामारी के समय भी शराब की होम डिलिवरी कराने से बाज नहीं आई। दो दिन पूर्व महासमुंद में एक ही परिवार के 6 सदस्यों द्वारा आत्महत्या करने की हृदयविदारक घटना शराब के वजह से हुई है।किसी भी सरकार के लिए इससे शर्मनाक बात और क्या हो सकती है।

श्री नेताम ने कहा कि किसानों की कर्जमाफी का झूठा वादा प्रदेश के किसानों के आत्महत्या का कारण बन रहा है।केन्द्र से किसानों को मिलने वाली सम्मान निधि को राज्य सरकार जानबूझ कर रोक रही है।भूमिहीन परिवारों को पट्टा देने के वायदे से भी यह सरकार मुकर गयी। एक लाख शासकीय नौकरी का वायदा करने के बाद भी इस दिशा में कोई पहल नहीं हो रही।यहां तक क छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग में भी अराजकता चरम पर है। युवाओं को ढाई हजार रूपये बेरोजगारी भत्ता देने का चुनावी वायदा भी कांग्रेस सरकार भुला चुकी है। प्रदेश में 5 हजार युवाओं को अब तक नौकरी से निकाला जा चुका है।

राज्यसभा सांसद श्री नेताम ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में छत्तीसगढ़ की जनता की जान बचाने के बजाय कांग्रेस सरकार राजनीति ही करती रही। एक तरफ जहां केन्द्र से भेजे गए टीके बर्बाद हुये, वहीं टीकाकरण को लेकर किया गया दुष्प्रचार छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ने का बडा़ कारण बना। टीकाकरण में भी आरक्षण का नियम लागू करने का अजीबो-गरीब मामला भी प्रदेश की जनता ने देखा है। मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री के आपसी राजनीतिक टकराव के चलते छत्तीसगढ़ देश में कोविड से प्रभावित दूसरे नम्बर का राज्य बन गया था।

श्री नेताम ने कहा कि ढाई साल के कार्यकाल में कांग्रेस ने बस्तर क्षेत्र को कुछ नहीं दिया बल्कि बस्तर का नाम ही विलोपित करने का कुचक्र रचती रही। बस्तर विश्वविद्यालय का नाम बदलने की घटना निंदनीय है। जो बस्तर अपने नैसर्गिक सौंदर्य आदिवासी संस्कृति, खनिज संपदा, विशेष तीज-त्यौहार के लिए समूचे विश्व में प्रसिद्ध है, ऐसे बिरले बस्तर का नाम मिटाने का षडयंत्र कांग्रेस रच रही है।

आज प्रेसवार्ता के दौरान प्रमुख रूप से भाजपा जिलाध्यक्ष रूपसिंह मण्डावी, पूर्व विधायक संतोष बाफना, बैदुराम कश्यप, लच्छूराम कश्यप, राजाराम तोड़ेम, पूर्व जिलाध्यक्ष विद्याशरण तिवारी, योगेन्द्र पाण्डे, श्रीनिवास मिश्रा, रामाश्रय सिंह, वेदप्रकाश पाण्डे, संजय पाण्डे, आलोक अवस्थी, राजेन्द्र बाजपेयी, दीपिका सोरी, अविनाश श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।