कांग्रेस ने क्षत्रीय पर खेला दाव, क्या भाजपा ब्रह्मण को देगी मौका या ओबीसी से किसी को बनाएगी प्रत्यासी

7:17 pm or June 10, 2022
एस पी वर्मा
सिंगरौली १० जून ;अभी तक;   सिंगरौली की अनारक्षित महापौर सीट पर काग्रेस पार्टी द्वारा ओबीसी व ब्राह्मण वर्ग को दरकिनार कर *क्षत्रीय समाज* से  *अरविंद सिंह चंदेल* के नाम की घोषणा कर सामान्य वर्ग के बीच राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा दी गई , जिसके बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि  क्या भाजपा  *ब्राह्मण समाज* से दावेदारी कर रहे *वरिष्ठ नेता गिरीश द्विवेदी  , विनोद द्विवेदी व  वशिष्ठ पाण्डेय* में से किसी को मौका देगी या फ़िर *ओबीसी बहुल्यता* को देखते हुऐ  *अनारक्षित सिंगरौली विधान सभा  सीट* की तरह *महापौर सीट* पर भी किसी  *ओबीसी कैंडिडेट* को मैदान मे उतारेगी। यदि ऐसा हुआ तो *ओबीसी समाज* से *पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष रामनिवास शाह, पूर्व ननि अध्यक्ष  चंद्रप्रताप विश्वकर्मा* की प्रबल दावेदारी हैं जबकि ओबीसी से ही *पूर्व द्वय सीडा उपाध्यक्ष क्रमशः नरेश शाह व दिलीप शाह* भी अंदर ही अंदर मौका चाहते हैं। दोनो समाज से उक्त नामों में से किसी नाम का  भाजपा अगले 36 घण्टे के भीतर  घोषणा कर सकती है। फिलहाल  सिंगरौली भाजपा के नेताओ की जहां  धड़कने बढ़ गई हैं वहीं राजनीति फिजा काफी गर्म है।
           *भाजपा राष्ट्रीय नेतृत्व के सिद्धांतानुसार* यदि युवा व नए चेहरे को मौका देने की बात आई  तो *एबीव्हीपी, संघ व भाजपा में विभिन्न पदों पर रहकर पिछले 27 वर्ष से पार्टी* की सेवा कर रहे  *विनोद दुबे* टिकट के प्रबल दावेदार हो सकते हैं। विनोद दुबे ने अपनी दावेदारी मजबूती से की है। ब्राह्मण समाज से ही यदि  *वरिष्ठता व अनुभव के आधार पर पार्टी किसी  को मौका देने के बारे में विचार कर सकती है तो बेहद सरल , मिलनसार , कर्मठ , पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष व वरिष्ठ नेता  गिरीश द्विवेदी* के नाम की घोषणा हो सकती है। श्री द्विवेदी ने अपनी दावेदारी सार्वजनिक तो नही किया है लेकिन सूत्र बता रहे हैं की पार्टी में  इनकी बहुत मज़बूत व प्रबल दावेदारी है। *ब्राह्मण समाज* से एक और जिस नाम की चर्चा है वो हैं  संघ व भाजपा से जुड़े *वशिष्ठ पाण्डेय* का, जिन्होंने ने बकायदे पार्टी को बायोडाटा प्रेषित कर  अपनी   प्रबल दावेदारी ठोकी है। इतना ही नही श्री पांडेय तो आश्वस्त हैं की इन्हे मौका भी मिल सकता है। *कांग्रेस द्वारा क्षत्रीय समाज के अरविन्द सिंह चंदेल* को टिकट देने के बाद  माना जा रहा है कि भाजपा  ब्राह्मण समाज से उक्त दावेदार चेहरों में से किसी के नाम की सरप्राईज  घोषणा कर सकती है।
*क्या विधान सभा की तरह ननि  चुनाव में भी ओबीसी को मिलेगा मौका*
क्षेत्र में चर्चा है कि यदि भाजपा ने ब्राह्मण समाज से उक्त नामों  में से किसी पर मुहर नही लगाया तो पक्का है की *ओबीसी बाहुल्य सिंगरौली* मे *अनारक्षित  विधान सभा सीट* की तरह *महापौर सीट पर ओबीसी समाज* के प्रबल दावेदारों में से किसी को मौका मिल सकता है। *अनारक्षित महापौर की सीट पर दो प्रबल सहित चार लोगों की दावेदारी*  है इनमें पहले स्थान पर *पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष व प्रदेश कार्यसमिति सदस्य , सरल , सहज व मृदुभाषी राम निवास शाह* है जबकि *दूसरे स्थान पर नगर पालिक निगम के पूर्व अध्यक्ष व हार को जीत में बदलने के मास्टर माइंड चंद्रप्रताप विश्वकर्मा*  प्रबल दावेदार है। चर्चा है कि जिले के बड़े भाजपा नेताओ के साथ दूसरे सामाजिक व अन्य संगठनों से इनको व्यक्तिगत संबंध के आधार पर  समर्थन मिल रहा है। ओबीसी के *शाहू समाज* से संबंध रखने वाले *पूर्व द्वय सीडा उपाध्यक्ष नरेश शाह व दिलीप शाह* की भी दावेदारी है। इन लोगों ने अपना बायोडाटा पार्टी को दिया है या नही। ये तो नही पता   लेकिन चर्चा है कि पार्टी द्वारा यदि युवा चेहरे को मौका दिया जा सकता है सो इन दोनो की भी अपने अपने स्तर से  प्रबल दावेदारी है। भाजपा शनिवार या फ़िर रविवार को सिंगरौली महापौर के नाम की घोषणा कर सकती है।