कार से करते थे रैकी, छोटा हाथी में लाते थे गैस कटर, पिकअप से ले जाते थेे चोरी का सामान

मयंक शर्मा

बैतूल ५ अक्टूबर ;अभी तक;  पिछले माह बैतूल पुलिस द्वारा स्थानीय चोर गिरोह को पकड़कर लगभग दर्जन भर चोरी का खुलासा करने के बाद अब शहर के गंज क्षेत्र में पान मसाला व्यापारी के गोडाउन में चोरी करने वाले महाराष्ट्र के अंतर्राज्यीय चोर गिरोह को पकडऩे में सफलता प्राप्त की है। अमरावती के इस चोर गिरोह के सदस्य पहले कार से रैकी करने आते थे फिर छोटा हाथी वाहन में गैस कटर सिलेंडर लेकर चोरी करने आते थे। वहीं चोरी के बाद पिकअप वाहन में चोरी का माल भरकर ले जाते थे। विगत 27-28 सितम्बर की रात्रि में कांतिशिवा टाकीज के पास पान मसाला व्यापारी के गोडाउन से लगभग 5 लाख रुपए मूल्य के पाउच, तंबाकू, सुपारी सहित अन्य पान मसाला चोरी करने के एक सप्ताह के अंदर ही बैतूल गंज पुलिस ने न सिर्फ चोरी का खुलासा कर दिया  बल्कि अंतर्राज्यीय चोर गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके पास से लगभग ढाई लाख रुपए का चोरी का माल सहित एक कार, एक पिकअप, एक छोटा हाथी, गैस कटर, गैस सिलेंडर सहित 20 लाख रुपएका मशरूका बरामद किया है। इस गिरोह के तीन सदस्य चोरी का आधा माल लेकर अभी भी फरार है। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

शहर के प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्र गंज में कांतिशिवा टाकीज के पास आशीष पिता भरतलाल तलरैजा के पान मसाला गोडाउन में विगत 27-28 सितम्बर की रात में अज्ञात चोरों ने गैस कटर से शटर काटकर चोरी की वारदात की थी। चोरों ने गोडाउन से विमल, राजश्री, सचिन पाल मासाला, रितिक सुपारी, कमल किशोर तंबाकू से भरे बोरे चोरी कर लिए थे। चोरों ने लगभग 5 लाख रुपए के पान मसाला चोरी करके ले गए थे। आशीष की रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ धारा 457, 380 का अपराध दर्ज किया था।

सीसीटीवी से मिले सुराग

चोरी की इस वारदात के कुछ समय पूर्व ही बैतूल पुलिस ने एक स्थानीय चोर गिरोह को पकड़कर लगभग दर्जन भर चोरियों का खुलासा करने के साथ ही लगभग 40 लाख रुपए का माल बरामद किया था। इस खुलासे के सप्ताह भर बाद ही प्रमुख व्यवसायिक क्षेत्र में हुई चोरी पुलिस के लिए चुनौती बन गई थी। पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद के निर्देशन, एएसपी नीरज सोनी, एसडीओपी नितेश पटेल, प्रभारी एसडीओपी विवेक गौतम के मार्गदर्शन में गंज थाना प्रभारी द्वारा गंज क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। जिसमें वारदात की रात में महाराष्ट्र के अमरावती पासिंग के एक पिकअप, एक छोटा हाथी वाहन संदिग्ध नजर आए। वहीं महाराष्ट्र पासिंग की ही एक एक्सेंट कार भी सीसीटीसी में कैद हो गई थी।

अमरावती में गिरफ्तार हुए तीन आरोपी

सोमवार को गंज थाना में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में प्रभारी एसडीओपी विवेक गौतम और गंज थाना प्रभारी प्रज्ञा शर्मा द्वारा चोर गिरोह का खुलासा किया। श्री गौतम ने बताया कि अपराध विवेचना के दौरान तकनीकि संसाधनों के उपयोग और मुखबिर की सूचना के बाद बैतूल में दिखे वाहन के मालिक और चालकों से पूछताछ की तो वे सही जवाब नहीं दे सके। इसके बाद पुलिस ने पिकअप चालक मो. साबिर उर्फ पिंटू पिता मो. रफीक 21 निवासी अलीम नगर अमरावती, अब्दुल शहजाद पिता अब्दुल बुद्धुस 26 निवासी ताज नगर अमरावती और मो. अनरवर पिता मो. आरीफ 24 निवासी लालखेड़ी अमरावती को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ की जिसमें उन्होंने चोरी करना स्वीकार किया।

3 वाहन जब्त, 3 आरोपी फरार

अमरावती से पकड़ाए तीनों आरोपियों ने बताया कि इस वारदात उनके अतिरिक्त शेख फहीम पिता शेख सुभान,वसीम खान पिता असरार खान और शेख कौसर पिता शेख जब्बार तीनों निवासी अलीम नगर अमरावती भी शामिल थे जो चोरी का आधा माल लेकर फरार हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास से घटना में प्रस्तुत पिकअप वाहन क्रमांक एमएच 27 एक्स बी 1309, छोटा हाथी क्रमांक एमएच 27 एक्स 4620, एक्सेंट कार क्रमांक एमएच 12 एनबी 1693 के साथ ही घटना में प्रयुक्त गैस कटर मशीन, ऑक्सीजन सिलेंडर और लगभग ढाई लाख रुपए के पाउच, तंबाकू के बोरे सहित 20 रुपए का मशरूका जब्त किया है।

6 महीने पहले गोडाउन में माल लेकर आया था आरोपी

प्रभारी एसडीओपी विवेक गौतम ने बताया कि इस गिरोह का एक सदस्य साबिर पिता पिंटू पिकअप वाहन चलाता है। लगभग 6 माह पहले पिंटू पिकअप वाहन में आशीष तलरेजा का माल डिलीवर करने पिकअप से आया था। तब ही उसने एकांत में बने गोडाउन में चोरी करने की योजना बना ली थी। इसके बाद आरोपियों ने कार से आकर रैकी की थी। वारदात के लिए छोटा हाथी में ऑक्सीजन सिलेंडर और गैस कटर लेकर आए थे। गैस कटर से शटर काटकर पिकअप वाहन में पान मसाला, पाउच तंबाकू,सुपारी के बोरे भरकर ले गए थे। श्री गौतम ने बताया कि तीन फरार आरोपी भी जल्द गिरफ्तार किए जाएंगे।

इनकी रही सराहनीय भूमिका

चोरी की इस वारदात का खुलासा करने में गंज थाना प्रभारी प्रज्ञा शर्मा के साथ ही कार्यवाह निरीक्षक सरविंद ध्ुार्वे, एसआई छत्रपाल धुर्वे, प्रधान आरक्षक अरूण, अजय वरवड़े, महेंद्र, बंशीलाल, आरक्षक नितिन, अनिल, सैनिक जावेद खान के साथ ही सायबर सेल टीम और एफएसएल टीम की सराहनीय भूमिका रही।