किसान सरलता से अपनी उपज बेच सकें, इसके लिए उपार्जन केन्द्रों पर सभी इंतजाम सुनिश्चित करें- कलेक्टर

दीपक कांकर

रायसेन, 15 मार्च ,अभीतक  । कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला उपार्जन समिति की बैठक आयोजित कर कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने जिले में रबी उपार्जन के लिए की जा रही तैयारियों की विस्तार से जानकारी लेते हुए समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्धारित उपार्जन केन्द्रों का निरीक्षण करते हुए उपार्जन केन्द्रों पर तौल कांटे, धागा, सिलाई, बारदाने, टैग सहित जरूरी इंतजाम पर्याप्त समय पहले पूर्ण करने के निर्देश दिए।
कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि प्रदेश में मौसम परिवर्तन के चलते शासन द्वारा रबी उपार्जन वर्ष 2021-22 के तहत समर्थन मूल्य पर चना, मसूर और सरसों की उपार्जन तिथि बढ़ाते हुए 22 मार्च से प्रारंभ किए जाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि किसान बिना किसी परेशानी के सुगमता से अपनी उपज न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सके, इसके लिए उपार्जन केंद्रों पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। कलेक्टर श्री भार्गव ने कहा कि भारत की उपार्जन नीति अनुसार तेवड़ा मिक्स चना नहीं लिया जाएगा। इसलिए किसानों को समझाईश दी जाए कि वे उपार्जन के लिए तेवड़ारहित चना ही लेकर आए जिससे कि उन्हें किसी प्रकार की परेशानी न हो।
कलेक्टर श्री भार्गव ने निर्देश दिए उपार्जित अनाज के त्वरित परिवहन और भण्डारण के लिए भी व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जाएं जिससे कि उपार्जन केन्द्रों पर अधिक समय तक अनाज रखा न रहे। उन्होंने उपार्जन केन्द्रों पर किसानों के लिए पेयजल, छाया, बैठक व्यवस्था सहित ट्रेक्टर-ट्रालियों के आगमन और निर्गमन सहित अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी ली। बैठक में संयुक्त कलेक्टर श्री संजय उपाध्याय, उप संचालक कृषि श्री एनपी सुमन, जिला खाद्य अधिकारी श्रीमती ज्योति जैन सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *