कुख्यात बदमाष फारूख उर्फ नड्डा के विरूद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत की कार्यवाही

महावीर अग्रवाल

मन्दसौर २७ अगस्त ;अभी तक;  थाना वायडी नगर मन्दसौर थाना क्षेत्र का आदतन अपराधी फारूख उर्फ नड्डा पिता अहमद मथारिया उम्र 40 साल नि. मुल्तानपुरा के विरूद्व राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 के तहत कार्यवाही की गई ।

अनावेदक फारूख उर्फ नड्डा पिता अहमद मथारिया का मंदसौर क्षेत्र मंे वर्श 2001 से लगातार आपराधिक गतिविधियों में सक्रिय आदतन अपराधी है। इसके द्वारा लडाई झगडा, घर में घुसकर मारपीट, जान से मारने की धमकी देना, प्राणघातक हमला करना, अवैध शस्त्र रखना, गौवंश की तस्करी करना, जुआ खेलना, हफ्ता वसूली करना, रास्ता रोेककर पुलिस पार्टी का घेराव कर उनके शासकीय कार्य में बाधा पहुचाना जैसे गंभीर अपराध लगातार घटित कर रहा है। तस्करी में लिप्त होकर जुआ खेलकर व खिलवाकर एवं अवैध गौवंश ले जाकर व लडाई झगडा कर अवैध संपत्ति भी बना ली है। इसके लगातार आपराधिक कृत्यों से शहर में कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित होती रहती है। अनावेदक के विरूद्ध समय समय पर आपराधिक गतिविधियों पर अंकुष लगाने हेतु प्रतिबंधात्मक कार्यवाही भी की गई है। किंतु इसकी आपराधिक गतिविधियों में कोई कमी परिलक्षित नही हुई है, अनावेदक के द्वारा किये जा रहे कृत्य से क्षेत्र की जनता में भय एवं आतंक माहौल व्याप्त है अनावेदक के उक्त कृत्यो से आम जनता का साधारण जन जीवन दुष्वार होकर इसके विरुद्ध साक्ष्य देने एवं रिपोर्ट करने में स्वयं को असहज महसुस कर रहे है। अनावेदक इसका भय बनाकर अवैध लाभ प्राप्त कर पुलिस एवं न्याय प्रणाली को चुनौती देते हुए सहजता से निर्भिक होकर आपराधिक गतिविधियां संचालित करता आ रहा हैं।

जिले एवं आसपास के जिलों व राज्यो में सामाजिक शांति बनाये रखने एवं लोक व्यवस्था कायम रखने की दृष्टि से एवं अनावेदक फारुक उर्फ नड्डा पिता अहमद मुल्तानी मथारिया उम्र 40 साल निवासी ग्राम मुल्तानपुरा की आपराधिक प्रवृत्ति में सुधार के उद्धेष्य से यह आवश्यक हो गया है कि इस कुख्यात एवं आदतन अपराधी की आपराधिक गतिविधियो पर अंकुश लगाने हेतु तत्काल निरोध में रखा जाना महत्वपूर्ण हो जाने से इसके विरूद्ध जिला दंडाधिकारी से निरोध आदेष प्राप्त कर रा.सु.का. के अंतर्गत कार्यवाही की गई है ।

अतः आम जन को अनावेदक फारुक उर्फ नड्डा पिता अहमद मुल्तानी मथारिया उम्र 40 साल निवासी ग्राम मुल्तानपुरा से भय मुक्त करने तथा क्षेत्र का साम्प्रदायिक सौहार्द कायम रखने तथा अनावेदक की आपराधिक गतिविधियों पर पुर्ण रुप से नियंत्रण लगाने एवं सार्वजनिक लोक व्यवस्था को छिन्न भिन्न होने से बचाने एवं व्यापक लोक शांति बनाये रखने के लिये यह नितांत आवश्यक है कि अनावेदक फारुक उर्फ नड्डा निवासी मुल्तानपुरा का राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 के अंतर्गत जिला दंडाधिकारी महोदय से निरोध आदेष जारी करवाकर निरोध में लिया गया।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *