कृषि उपयोगी सामान विक्रेता और किसान नेताओं से चर्चा करें प्रशासन -चन्द्रे

महावीर अग्रवाल

मन्दसौर ३१ मई ;अभी तक;  किसानों के खेत बोवनी के लिए तैयार हो गए हैं अब उन्हें बीज-खाद और दवाइयों की सख्त आवश्यकता होगी तथा लाक डाउन हटने से गांव के किसान शहर की ओर रुख करेंगे तथा खाद-बीज और कृषि दवाइयों की दुकानों पर भारी मात्रा में भीड़ होगी और इसके साथ-साथ शहर में भी भीड़ उतर जाएगी। अतः उक्त स्थिति पर नियंत्रण के लिए  जिम्मेदारों को सतर्क होना आवश्यक है यदि इसके प्रति सतर्क नहीं हुए तो सारा करा कराया बेकार हो जाएगा।

प्रशासन का ध्यान इस ओर आकर्षित करते हुए शिक्षाविद रमेशचंद्र चंद्रे ने कहा कि जून महीने में बोवनी का समय होने के कारण किसान लॉकडाउन हटने के साथ ही खेती-बाड़ी के लिए सक्रिय हो जाएंगे और कृषि उपयोगी सामग्री खरीदने को किसान सक्रिय होंगे इसलिए उन्होंने कहा कि यदि इस प्रकार की दुकानों को खुलने का समय प्रात काल 7 से 10 तक तथा शाम को 5.30 बजे से रात्रि 8 बजे तक रखना चााहिए ताकि इस समय में किसान अपना सामान खरीद कर वापस गांव चले जाऐंगे अन्यथा जिसे अन्य सामान खरीदना है सिर्फ वही किसान बाजार के लिए रुकेंगे इससे अनावश्यक भीड़ शहर में कम होगी।

श्री चन्द्रे ने कलेक्टर महोदय और अन्य जिम्मेदारों  से आग्रह किया है कि  एग्रीकल्चर का सामान बेचने वाले दुकानदारों, व्यापारियोे तथा किसान नेताओं से चर्चा करके इस दिशा में विचार करना चाहिए।