कैबिनेट मंत्री विजय शाह ने मंच पर बनवाई दाडी कटिंग फिर दिये शिल्पी को 60 हजार रुपए

2:09 pm or September 11, 2020
कैबिनेट मंत्री विजय शाह ने मंच पर बनवाई दाडी कटिंग फिर दिये शिल्पी को 60 हजार रुपए

मयंक शर्मा

खंडवा ११ सितम्बर ;अभी तक;  मयप्रदेश के वनमंत्री विजय शाह ने अपने हरसूद विधानसभा क्षेत्र वनांचल के ग्राम गुलाई माल के दौरे में सभी को आश्चर्यचकित कर दिया जब मंच पर एक केश शिल्पी से दाडी कटिग बनवाई और फिर शिल्पी को 60 हजार देते हुये कहा इससे रोजी कमाओ और आत्म निर्भर बन जाओ।

              उपस्थित ग्रामीणो में चपालाल कोरकू ने बताया कि बुधवार को मंत्रीजी ने रोहीदास का दिये गये आश्वसयन को निभाने पुन बुधवार को ग्राम में आये थे। उन्होने मंच पर माइक से युवक का नाम लेकर बुलाया। उससे कहा मैं देखना चाहता हूं कि तुम कितनी अच्छी कटिंग-सेविंग करते हो। युवक ने मंच पर ही मंत्री की कटिंग-सेविंग की। मंत्री ने खुश होकर युवक को सैलून खोलने के लिए 60 हजार रुपए प्रदान कर उसे अचंभित कर दिया लेकिन जबाबदेही डाल दी कि पीएम मोदी की मंशानुसार इस रकम का उपयोग से स्वरोजगार को बढाते हुये आत्मनिर्भर बनकर दिखाओ।आगे कोई समस्या आए तो याद कर लेना।
श्री शाह ने योजना के तहत मदद के अलावाा खुश होकर रोहीदास को अलग से 500 रुपए भी दिए। दी गयी आर्थिक मदद में योजना तहत 50 हजार रुपए नए औजार, क्रीम, ब्रश, फर्नीचर आदि खरीदी के लिये तथा 10 हजार रुपए केपीटल पूजी के रूप मे दिए है। यह मोटी रकम किस मद से दी गयी । इस पर अभी भी रहस्य का पर्दा उठा नहीं ं है।

उल्लेखनीय है कि नोटबंदी और फिर लाॅेक डाउन के चलते अप्रवासी मजूर व ग्रामीणो ने ने गुलाई माल के उनके पिछले दौरे के दौरान आर्थिक मदद की गुहार की थी। इसी कडी में मांग करने वाले केश शिल्पी रोहिदास भी शामिल था। युवक ने मंत्रीजी को बताया था कि नाई का काम करता है। सैलून खोलना चाहता हूं। शाह ने उसे मदद का भरोसा दिया था। गुलाईमाल के अलावा मंत्रजी ने बुधवार को आड़ाखेड़ा, सुंदरदेव, धामा, दिदम्दा आदि में गांवों में भी युवाओं से आग्रह किया कि वे खुद का कोई भी छोटा-मोटा व्यापार करें, लेकिन बेरोजगार न रहें। सब्जी, कपड़े, चूड़ी, जूते-चप्पल आदि बाजारों में बेचो। 10 हजार रुपए बैंक से हम दिलवाएंगे। आपको मूल रकम ही जमा कराना है, ब्याज सरकार देगी।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *