कॉमरेड दुबे के नाम से जाना जाएगा एनआरएमयू कार्यालय: नायर

मयंक भार्गव

बैतूल २३ अक्टूबर ;अभी तक;  दुनिया में जो आया है उसे एक ना एक दिन जाना ही है। यही दुनिया का शाश्वत सत्य है। लेकिन दुनिया में आकर कुछ करके जाने वाले हमेशा-हमेशा के लिए लोगों की जुंबा और दिलों में जिंदा रहते हैं। ऐसी ही बिरली शख्सियत के धनी कॉमरेड स्व. शंकरलाल दुबे थे। स्व. शंकरलाल दुबे रेलवे के गरीब, मजदूर और दबे-कुचले लोगों की आवाज थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन इन्ही को न्याय दिलाने में व्यतीत कर दिया। आज भले ही स्व. दुबे हमारे साथ नहीं है लेकिन उनके द्वारा किया गया संघर्ष और न्याय के लिए जज्बा आज भी प्रत्येक एनआरएमयू के कामरेड में सर्वविदित है। ऐसी महान शख्सियत को एनआरएमयू की ओर से अदाजंलि अर्पित है। यह बात एनआरएमयू के राष्ट्रीय महामंत्री वेणु नायर ने बैतूल एनआरएमयू कार्यालय में स्व. शंकरलाल दुबे के लिए आयोजित अदरांजलि कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। इस अवसर पर कॉ.विरेन्द्र पालीवाल, कॉ.अशोक कटारे, कॉ.जवाहर देशमुख, कॉ.पवन दुबे, कॉ.परसराम पठाड़े, कॉ.एसके सोनी, कॉ.राजेश गुप्ता, कॉ.संजय खातरकर सहित बड़ी संख्या में संगठन के पदाधिकारी और सदस्य मौजूद थे।
कॉ. दुबे के नाम से जाना जाएगा एनआरएमयू कार्यालय
रेलवे स्टेशन परिसर में शुक्रवार को आयोजित अदरांजलि कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एनआरएमयू के राष्ट्रीय महामंत्री वेणु नायर ने कहा कि कॉ. शंकरलाल दुबे के संघर्ष की जीवंत मिसाल थे। स्व. दुबे ने अपना पूरा जीवन एनआरएमयू के लिए समर्पित कर दिया। उन्होंने हमेशा न्याय के लिए अपनी आवाज बुलंद की और कामरेडों को न्याय दिलाया इसलिए आज से बैतूल रेलवे परिसर में स्थिति एनआरएमयू कार्यालय कॉ. शंकरलाल दुबे के नाम से जाना जाएगा। श्री नायर ने यह भी कहा कि स्व. दुबे के जीवन और संघर्ष के लिए उन्हें एनआरएमयू की ओर से यही अदरांजलि है।
कार्यक्रम में यह थे मौजूद
गौरतलब है कि 6 जून को एनआएमयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष कॉ.शंकरलाल दुबे का निधन हो गया था और कोरोना गाईड लाईन के चलते संगठन का श्रदांजलि कार्यक्रम शुक्रवार को किया गया। कार्यक्रम महामंत्री वेणु नायर, कार्यकारी अध्यक्ष मुंबई कॉ.हबीब खान, डिवीजन सेकेट्री  कॉ. एसके झा, ईसीसी सोयायटी सेंट्रल बैंक के अध्यक्ष कॉ.विश्ववास सावंत के आतिथ्य में संपन्न हुआ। इससे पूर्व सभी अतिथि कॉ.दुबे के निवास पर पहुंचे और वहां उनके परिवार से भेंट की और कॉ.दुबे को पुष्पांजलि अर्पित की।
कॉ. दुबे को समर्पित होगा राष्ट्रीय अधिवेशन
रेलवे परिसर में कॉ.दुबे की स्मृति में पौधारोपण किया। इसके साथ ही आमला जो कि कॉ.शंकरलाल दुबे की कर्म स्थली रहा है वहां भी एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इस मौके पर वेणु नायर ने कहा कि उन्होंने कॉ.दुबे से बहुत कुछ सीखा है। कॉ.दुबे ने आने वाली पीढ़ी के साथ अन्याय ना हो इसके लिए पुरजोर संघर्ष किया जो हमेशा अविस्मर्णीय रहेगा। साथ ही कॉ.नायर ने घोषणा की कि इस वर्ष संगठन का राष्ट्रीय अधिवेशन कॉ.दुबे को समर्पित होगा।