कोरोना कफ्र्यू में भी ओम बड़ोदिया ने प्रस्तुत की पशु सेवा की मिसाल

महावीर अग्रवाल 
मन्दसौर ४ मई ;अभी तक;  मंदसौर से करीब 22 किलोमीटर दूर महू-नीमच हाईवे पर मल्हारगढ़ से पहले सूठोद डेरो के पास 2 दिन से घायल ऊंट रोड के किनारे भूखा प्यासा पड़े होने की सूचना गौ आरोग्य सेवा समिति के अध्यक्ष ओम बड़ोदिया को व्हाट्सएप के माध्यम से दी गई। कोरोना कफ्र्यू के दौरान भी पशु प्रेमी श्री बड़ोदिया ने मानव धर्म को निभाते हुए उक्त स्थल पर पहुंचे और गंभीर घायल ऊंट को निजी वाहन से मंदसौर स्थित गौशाला में लाये जहां उसका उपचार जारी है।
सेवा समिति के अध्यक्ष ओम बड़ोदिया ने बताया कि उक्त ऊंट महू-नीमच रोड़ पर घायल अवस्था में पड़ा था जहां से प्रतिदिन सैकड़ों वाहन निकलते है लेकिन किसी ने उसकी मदद की कोशिश नहीं की। सूचना मिलने पर वह अपनी टीम के साथ उक्त स्थल पहुंचे जहां देखा कि ऊंट को किसी वाहन ने टक्कर मार दी है जिससे उसके आगे और पीछे के एक-एक पैर बुरी तरह टूट चुके थे वह चलने में असक्षम था। श्री बड़ोदिया ने निजी वाहन किया और घायल ऊंट को मंदसौर गौशाला लेकर आए जहां उसका उपचार किया गया। उसकी देखरेख र्गौशाला में ही होगी। श्री बड़ोदिया ने बताया कि ऊंट के आगे का पैर और पीछे का पैर दोनों फैक्चर हो गया है जिस जगह से पैर फैक्चर हुए हैं वह जुड़ नहीं सकते हैं इसे ऐसी हालत में ही उसे अपना जीवन गुजारना पड़ेगा और इसकी उम्र 1 वर्ष है।
श्री बड़ोदिया ने कहा कि व्यापारी ऊंट को लेकर आते हैं और वह घायल हो जाते हैं उन्हें छोड़ जाते हैं ऐसे लोगों पर कार्रवाई हो और एमपी की सीमा में आने से पहले इनकी पूरी जानकारी हो और उनकी ऊंट के प्रति जवाबदेही निश्चित की जावे।