कोरोना काल में बदले स्वरूप के साथ नवरात्रि कल से

मयंक भार्गव

बैतूल १६ अक्टूबर ;अभी तक; कोरोना संक्रमण काल में अनलॉक की प्रक्रिया के बीच शारदेय नवरात्र कल से प्रारंभ होंगे। प्रदेश में दुर्गा प्रतिमा की ऊंचाई को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा काफी देरी से घोषणा की गई। जिसके चलते अधिकतर स्थानों पर लगभग 5-6 फिट या उससे छोटी प्रतिमाएं ही बनाई गई। कोरोना काल में प्रशासन के दिशा- निर्देशों के पालन के चलते इस बार नवरात्रि को लेकर अधिक उत्साह नहीं है। कई सार्वजनिक मंडलों द्वारा देवी प्रतिमा की स्थापना नहीं की जा रही है। गुरूवार को प्रतिमा ले जाने का सिलसिला शुरू हो गया जो देर रात तक चलता रहा।

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल में आए नवरात्रि के लिए पूर्व में प्रदेश सरकार द्वारा दुर्गा प्रतिमाओं की ऊंचाई निर्धारित करने कलेक्टर को अधिकृत किया था। बैतूल में भी कलेक्टर द्वारा 6 फिट तक का प्रतिमाएं स्थापित करने के दिशा निर्देश दिए थे। इसके बाद लगभग सभी मंडलों ने प्रतिमाओं के आर्डर दे दिए थे। लेकिन लगभग 15 दिन पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा दुर्गा प्रतिमाओं के साइज का प्रतिबंध हटा दिया गया लेकिन उक्त निर्णय लेने में देर हो चुकी थी। इसके बाद बड़ी प्रतिमाएं बनना मुमकीन नहीं था वहीं अधिकतर मंडलों द्वारा प्रतिमाओं का आर्डर दिया जा चुका था। इसके चलते इस साल शहर में विशाल प्रतिमाएं देखने को नहीं मिलेगी।

शारदेय नवरात्र को लेकर अधिकतर सार्वजनिक दुर्गा मंडलों द्वारा तैयारी पूर्ण कर ली है। दुर्गा प्रतिमाओं का साइज कम होने के कारण श्रृंगार सामग्री की दुकानों में भी भीड़ कम रही। गुरूवार को आसपास के ग्रामों के कई लोग प्रतिमाएं लेने पहुंचे। शनिवार को माता रानी की स्थापना के साथ ही शक्ति आराधना का पर्व शुरू हो जाएगा। इस वर्ष कोरोना के कारण नवरात्रि का उत्साह कम रहेगा। अधिकतर मातारानी के भक्त घर में ही मां की आराधना करेंगे। शनिवार से नौ दिन के उपवास शुरू हो जाएंगे। सार्वजनिक कार्यक्रमों में अधिकतम दो सौ लोगों की पाबंदी के कारण इस साल देवी जागरण, रामलीला सहित अन्य धार्मिक आयोजन नहीं हो पाएंगे। लोग सादगी के साथ माता रानी की आराधना करेंगे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *