कोरोना प्रोटोकाल के तहत दर्जनों शवों के हो रहे अंतिम संस्कार पर रिपोर्ट में मृतकों की संख्या नगण्य’

महावीर अग्रवाल 

मंदसौर ४ मई ;अभी तक;  सामाजिक कार्यकर्ता एवं सेवा बैंक के संचालक सुनील बंसल ने एक वक्तव्य में गंभीर मुद्दा उठाते हुए स्वास्थ्य विभाग पर यह आरोप लगाया है कि उनके द्वारा जारी की जा रही प्रतिदिन की कोरोना रिपोर्ट में कोरोना से मृतकों की वास्तविक संख्या नहीं बताई जा रही है  पूरा शहर जान रहा है कि मुक्तिधाम में रोज  औसतन 20 से 25 कोरोना से मृतकों के अंतिम संस्कार हो रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में कभी 2 तो कभी 3 मृतक बताए जाते हैं और अब तक केवल 56 मौत ही बता रखी है जबकि कोरोना से अप्रैल और मई माह के पहले सप्ताह के 4 दिनों में दर्जनों लोगों की मौत हो चुकी है।

                      श्री बंसल ने आरोप लगाया है कि कोरोना से मृतकों के परिजनों को कोरोना से मृत्यु होने का प्रमाण पत्र नहीं दिया जा रहा है। यह मृतकों के आंकड़े छिपाने की एक बड़ी साजिश है जब किसी कोरोना मरीज की मृत्यु हो जाती है तो उसके बदहवास परिजन यह नहीं देखते कि डॉक्टर उन्हें शव सौंपते समय क्या लिख कर दे रहे हैं किसी की मौत दम घुटने से बताई जाती है किसी की हृदय गति रुकने से बताई जाती है जबकि आमजन भी जान रहा है कि कोविड वार्ड में मरीज की मृत्यु सिर्फ कोरोना से हो रही है। मुक्तिधाम में मृतकों के शवों का दाह संस्कार पूरे कोरोना प्रोटोकाल के तहत हो रहा है, कोरोना से 20 मरीज मरते हैं और रिपोर्ट में 2 दिखाए जा रहे हैं। इन आंकड़ों को देखकर लगता है कि मानो कोरोना यहां है ही नहीं। एक और शासन ने आपदा प्रबंधन के तहत कोरोना मृतकों के परिजनों को 4 लाख रु क्षतिपूर्ति की राशि घोषित की है लेकिन स्वास्थ्य विभाग के षड्यंत्र के कारण कई मृतकों के परिजनों को यह राशि नहीं मिलेगी इसमें किसी बड़े घोटाले की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता जनप्रतिनिधियों व प्रशासनिक अधिकारियों को इस और तत्काल  ध्यान देना चाहिए।