कोविड से अनाथ हुए एवं जरूरतमंद बच्चों को निजी स्पॉन्सरशिप के अंतर्गत सहायता देने की अपील

आनंद ताम्रकार

बालाघाट ३ नवंबर ;अभी तक; कोविड-19 संक्रमण के दौरान ऐसे बच्चे जिनके माता एवं पिता दोनों का निधन हो गया है और जो अनाथ हो गये है एवं जरूरतमंद सभी बच्चों को पारिवारिक माहौल में अपना विकास करने, साथ ही खुशनुमा वातावरण में प्यार और सम्मान के साथ जिंदगी बिताने का एवं उनके सर्वांगीण विकास के लिये निजी स्पॉन्सरशिप की पहल की गई है। महिला एवं बाल विकास विभाग एवं राज्य बाल संरक्षण सोसायटी ने ऐसे बच्चों की मदद के लिए किशोर न्याय निधि के बैंक खाते में सहायता राशि देने की अपील की है।

महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती लीना चौधरी ने बताया कि शासकीय एवं निजी प्रायोजन (स्पांसरशिप) का मुख्य उद्देश्य बच्चों को उनके जैविक परिवार से अलग होने से रोकना, बाल देखरेख संस्था में रहने वाले बच्चे एवं मुक्त कराये गये बच्चों को उनके जैविक परिवार में भेजकर पुनर्वासित करना एवं उनका समग्र विकास करना, बाल देखरेख संस्था/ परिवार में बाल देखरेख एवं संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों के समग्र विकास करने हेतु सहायता प्रदान करना एवं सामाजिक रूप से सक्षम परिवारों को आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के एवं बाल देखरेख संस्था में रहने वाले बच्चों के विकास में सहयोग हेतु जोड़ना है।

इन उद्देश्यों की पूर्ति हेतु शासन द्वारा प्रति बच्चा प्रति माह 02 हजार बच्चे के माता पिता या संरक्षक को प्रदान किये जाने का प्रावधान है। कोविड महामारी के दौरान समाज में कई बच्चे जोखिमपूर्ण परिस्थितियों में आ गए हैं। ऐसे में आवश्यक है कि समाज के जिम्मेदार नागरिक आगे बढ़कर निजी स्पॉन्सरशिप के अंतर्गत बच्चों को वित्तीय, सामग्री, अधोसंरचना विकास हेतु सहायता करें, ताकि बच्चों का परिवार में ही पालन पोषण देखरेख हो और उन्हें परिस्थितिवश संस्थाओं में प्रवेशित न करना पड़े अथवा संस्था में अंतिम विकल्प के रूप में प्रवेशित बच्चे का बेहतर व समग्र विकास हो सके।

कोई भी फर्म, औद्योगिक इकाई, व्यापारी जरूरतमंद बच्चों की सहायता करने के इच्छुक हों तो महिला एवं बाल विकास विभाग के स्थानीय कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं अथवा विभागीय वेबसाइट www.mpwcdmis.gov.in पर विस्तृत दिशा निर्देशों का अवलोकन कर सकते है। सहायता राशि राज्य स्तर पर किशोर न्याय निधि के खाते में भी जमा की जा सकती है। बच्चों को प्रदाय सहायता के सम्बन्ध में पारदर्शितापूर्वक अद्यतन जानकारी नियमित रूप से उपलब्ध करायी जाएगी। किशोर न्याय निधि का बैंक खाता क्रमांक 40195484568 भारतीय स्टेट बैंक की जहांगीराबाद, भोपाल शाखा में है और बैंक शाखा का IFSC Code(आईएफएससी कोड) SBIN0001178 है। इच्छुक व्यक्ति एवं संस्थायें इस बैंक खाते में सहायता राशि जमा करा सकती है।