खंडवा संसदीय उपचुनाव- शनिवार को मतदान, नतीजो का पुर्वानुमान न लगा पाने से भाजपाव कांग्रेस सकते मे: मतदाता खामोश

मयंक शर्मा
खंडवा २९ अक्टूबर ;अभी तक;   समूचे ससंदीय क्षेत्र के भगवामय के वाजूद सत्तापक्ष भाजपा को
अपनी खंडवा संसदीय सीट पर कब्जा बरकरार रखने के लिये ऐडी चोटी को  जोर
लगाकर काफी पसीना बहाना पडा है।हाशिय पर खडी कांग्रेस ने खंडवा लोकसभा
उपचुनाव 2021 के मुकाबले को कडा कर भाजपा को चिंता में डाल रखा है कि
शनिवार के मतदान  में मतदाता क्या गुल खिलायेगे। भाजपा ने जिला ंपचायत के
पूर्व अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटिल को तो कांग्रेस ने  तीन बार विधायक रहे
ठा राजनारायण को उम्मीदवार रूप में मैदान में उतारा है। इनके साथ उपचुनाव
में 3 राष्ट्ीय दलो के उमीदवारो के साथ 11 निर्दलीय भी भाग्य अजमा रहे
है। ये चुनाव को प्रभावित कर पाये सके संभावना कम है।
कलेक्टर एंव जिला निर्वाचन अधिकारी अनय द्विवेदी ने बताया कि शनिवार को
मतदान की सभी तेयारियां पूर्ण कर ली गयी है।पोलिंग पार्टियां ईव्हीएम
मशीनो के साथ रवाना हो चुकी है। शंितूपूर्ण मतदान के लिये सतत चोकसी के
साथ महती संख्या में सुरक्षा बल व पुलिस जवान ड्यूटी पर लगाये गये है।
कलेक्टर ने बताया कि निर्वाचन में कोई मतदाता अपने मताधिकार से वंचित न
रहे इस लिए आयोग मतदाताओं की पहचान स्थापित करने के लिए वोटर कार्ड के
अतिरिक्त 11 प्रकार के अन्य दस्तावेजों को भी मान्य किया गया है। जिसमें
आधार कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, बैंकों/डाकघर द्वारा जारी फोटोयुक्त
पासबुक सहित आदि 11 प्रकार के आधिकारिक पहचान-पत्र मान्य रहेंगे। मतदान
केंद्रों पर मतदाताओं की सुरक्षा के लिए पूरी व्यवस्था की गई है। मतदाता
भय और बहकावे में नहीं आए अपने विवेक से मतदान करें।उन्होने कहा कि
मतदान केंद्रों पर रात्रि विश्राम के बाद शनिवार सुबह सात बजे से मतदान
दलों द्वारा चुनाव प्रक्रिया शुरू कराई जाएगी। 30 अक्टूबर को खंडवा
संसदीय क्षेत्र के आठ विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा।  संसदीय
क्षेत्र में शामिल चार जिलों के खंडवा, पंधाना, मांधाता, बड़वाह,
भिकनगांव, बागली, बुरहानपुर, नेपानगर में मतदान होना है।
समूचे  संसदीय क्षेत्र आठों विधानसभा सीटों को मिलाकर कुल 19 लाख 59 हजार
436 मतदाता है। इनमें 10 लाख 4 हजार 509 पुरुष और 9 लाख 54 हजार 854
महिला मतदाता है।
खंडवा जिले की तीन विधानसभा सीट खंडवा, पंधाना और मांधाता में तीनों ही
विधानसभाओं में 1080 मतदान केंद्रों पर वोटिंग होनी है। 1080 बूंथ पर
4590 अधिकारी और 90 सेक्टर अधिकारी मतदान प्रक्रिया को संपन्ना कराएंगे।
इन मतदान कर्मियों के दल में सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस जवान भी रहेंगे।
निवा्रचन अधिकारी ने आगे बताया कि लोकसभा उपचुनाव में 16 प्रत्याशी मैदान
में है। नोटा समेत उम्मीदवारों की संख्या 17 है, यानी हर पोलिंग बूथ पर 2
ईव्हीएम मशीनें रखी जाएगी। उन्होने  बताया कि पहली ईव्हीएम में 16
उम्मीदवार और दूसरी ईव्हीएम नोटा के लिए अलग से रहेगी।
करीब डेढ माह तक चले चुनावी शोर और ध्मासान में प्रचार में कांग्रेस के
मुकाबले भाजपा काफी आगे रही है।
एसपी विवेकसिंह ने बताया कि, पोलिंग पार्टियों के साथ सुरक्षा दलों को
बसों में बैठकर रवाना किया है।  खंडवा जिले में 129 पोलिंग बूथ संवेदनशील
है। यहां वीडियो कॉस्टिंग, वेब कॉस्टिंग, सीआईएफ, एसपीओ, होमगार्ड और
रिजर्व बल लगाया गया है।
जहां तक चुनाव नतीजो का  सवाल है मतगणना 2 नवम्बर को होगी लेकिन पूरे
पुनाव प्रचार दौरान भाजपा ने दिवंगत सांसद नंदू भैया को सच्ची
श्रद्धांजलि और विकास के मुद्दे पर वोट मागे है तो विपक्षी दल कांग्रेस
खेमे से नारा गुंजाया गया कि
केंद्र और प्रदेश की सरकार से हर वर्ग की बस एक ही आवाज बहुत हुई महंगाई
की मार नहीं चाहिए भाजपा सरकार । कमर तोड महगाई और विकास को रफतार के
दावों के बीच  30 तारीख को होगा मतदान और मतदाता अपना मतदान डालकर अपना
फैसला देगा और मतदाता का फैसला आने वाले भविष्य को तय करेगा
लोकतंत्र के महापर्व में संविधान ने हमें जो अधिकार दिया है उसका उपयोग
पूरी निष्ठा और ईमानदारी से करें वोट जिसको भी देना है दे मतदान करने
मतदान केंद्र अवश्य पहुंचे यही अपील प्रशासन की ओर से सर्वोपरि है।
समीक्षात्मक पर गोर करने योग्य होगा कि ईव्हीएम मशाीनों के हवाले मतदाता
की पीडिया होगी या अच्छे दिनो के लिये विकास की रफतार पर सवार होगें इसी
के ध्यान में रखकर शनिवार को मतदाता में मतदान में हिस्सेदाररी करेगे तो
यहीं कुछ मंगलवार को ईवीएम मशीनो गणना में उगलेगी। तब तक कयासों का ही
दौर रहेगा।