खजाने का लालच देकर जहर खिलाकर हत्या करने वाले आरोपी की जमानत खारिज

रवि शर्मा
  गोहद (भिंड) २९ सितम्बर ;अभी तक; सहायक जिला अभियोजन अधिकारी/ सहायक मीडिया सेल प्रभारी प्रवीण सिंह सिकरवार द्वारा बताया गया कि अभियोजन के अनुसार फरियादी लक्ष्मण पुत्र रामस्वरूप बाथम उम्र 60 साल निवासी छतरपुरा वार्ड नंबर 1द्वारा बताया कि दिनांक 11.09. 2020 को शाम करीबन 5:00 बजे मुझे उमेश कुशवाहा और होतम कुशवाह अपने घर से खजाना खोजने की बात बता कर मोटरसाइकिल से बेहट की कह कर साथ में लेकर गए थे रास्ते में पहुंचे वहां पर खलीफा उर्फ विजय सिंह और थान सिंह कुशवाह निवासी मो मोटरसाइकिल से मिले वहां से हम पांचों लोग दो मोटरसाइकिल पर बेहट पहुंचे । बेहट में रामदास गुर्जर अपने खेत पर बने कुआं पर मिला था। वहां पर बैठकर हम सभी लोगों  खेत में गड़े खजाने (धन) को गड्ढा खोदने की बात हुई थी तभी खलीफा कुशवाह और उमेश कुशवाहा की खजाने के गड्ढा को खोदने के संबंध में 10-10 हजार रुपये की शर्त रखी गई खलीफा कुशवाह और रामदास गुर्जर ने उमेश और गौतम और मुझसे यह बात रखी थी कि अगर तुम तीनों ने 5 फुट गहरा गड्ढा खोद दिया तो हम तुम्हें 10-10 हजार रुपये देंगे अगर तुम लोग खजाने का गड्ढा नहीं खोज पाए तो 10-10 हजार रुपये तुम लोग हमको दोगे और खजाना मिलने पर आधा-आधा बांट लेंगे
               उसी समय पूजा के लिए खलीफा कुशवाहा ने रामदास गुर्जर और थान सिंह कुशवाहा से प्रसाद चढ़ाने के लिए 2 किलो लड्डू 1 किलो जलेबी और पूजा की सामग्री मंगाई कुआं से रामदास गुर्जर अपने खेत में सभी को लेकर गया और वहां पर खलीफा कुशवाहा ने खजाने के लिए गड्ढा खोदने की जगह बता कर पूजा की । पूजा करने के बाद हम तीनों को थान सिंह ने प्रसाद में लड्डू और जलेबी खाने के लिए दिए । हम तीनों में उमेश गौतम कुशवाहा ने लड्डू जलेबी का प्रसाद खाया था मैं मीठा कम खाता हूं इसलिए मैंने कम लड्डू जलेबी खाए थे इसके बाद हम तीनो लोग गड्ढा खोदने लगे। गड्ढा करीब 5 फुट हुआ गौतम और उमेश का मूड पिराने लगा और मेरी जीभ चिपकने लगी तो हम सभी ने खलीफा कुशवाह थानसिंह कुशवाह और रामदास गुर्जर को यह बात बताई तो खलीफा कुशवाह बोला कि भागो जल्दी से इन मोड़ाओ को ले जाओ यहां हवा बयार आ गई तभी वहां से हम सभी लोग भागे कुंआ की तरफ आए और कुआं से अपनी मोटरसाइकिल पर उमेश गौतम एवं में बैठकर भागकर आए यह बात करीब रात्रि दो ढाई बजे की होगी फिर हम रास्ते में अपनी सुध बुध खो गए और मदनपुरा के रास्ते में मैं और गौतम कुशवाह उतर गए और उमेश मोटरसाइकिल लेकर गोहद की तरफ चला गया मैं और गौतम मदनपुरा के पास गला चिपकने से तड़प रहे थे तभी सुबह होने पर गांव वालों ने पुलिस को खबर की तब तक गौतम की सांस टूट गई थी और मैं बेहोश पड़ा हुआ था ।
               पुलिस मुझे और गौतम को लेकर अस्पताल लेकर गए। मो से मैं अपने पड़ोसी कल्लू जाटव के साथ अपने घर आया तो मुझे पता चला कि उमेश भी गोहद में मरा मिला था यह बात अपने होश में आने के बाद आज मैंने उमेश और गौतम के परिवार वालों को बताई कि खलीफा उर्फ विजय सिंह कुशवाह रामदास गुर्जर ने खजाना खोजने के लिए बुलाया और प्रसाद के लड्डुओं में हम तीनों को जहर जान से मारने की नियत से हम लोगों को खिलाया था ताकि हम लोग शर्त के पैसे नहीं मांग सकें जहर के कारण ही मेरे साथ गए। होतम एवं उमेश कुशवाहा की मृत्यु हो गई है हम लोगों के पैसा और मोबाइल और सामान उन्हीं लोगों के पास छूट गया था यह बात मैंने होतम के भाई वीरेंद्र सिंह कुशवाहा एवं उमेश के पिता जी अमर सिंह कुशवाह को बता कर साथ लेकर थाने पर आकर लिखित आवेदन दिया है रिपोर्ट करता हूं कार्रवाई की जावे रिपोर्ट पर से थाना गोहद द्वारा अप0क्र0 –   259/20 पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया दौरान विवेचना के आरोपीगण खलीफा और विजय सिंह कुशवाह थानसिंह कुशवाह एवं रामदास सिंह गुर्जर को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया जो आरोपीगण को न्यायिक अभिरक्षा में उप जेल में निरुद्ध है प्रकरण विवेचनाधीन है ।
                  आरोपी/आवेदक रामदास सिंह गुर्जर पुत्र रणवीर सिंह गुर्जर  उम्र  40 साल निवासी वार्ड क्रमांक 4 अथाई मोहल्ला बेहट जिला ग्वालियर द्वारा मान0 न्यायालय के समक्ष जमानत के लिये  आवेदन प्रस्तुत किया था।अभियोजन द्वारा इस जमानत आवेदन का मान0 न्यायालय के समक्ष घोर विरोध किया और अपराध की गम्भीरता को देखते हुये मान0 न्यायालय से जमानत आवेदन निरस्त करने का निवेदन किया।
मान0 न्यायालय ने दोनों पक्षों को सुनने के पश्चात् अभियोजन के तर्क से सहमत होते हुये अभियुक्त का जमानत आवेदन खारिज कर दिया।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *