गरीब आदिवासी किसान प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से बंचित अनेको बार आवेदन देने के बावजूद नही मिल रहा लाभ

हमारे संवाददाता
पन्ना १७ नवंबर ;अभी तक;  भारत सरकार किसानो को खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये किसानो को मौसम के अनुसार किस्त में 6000 हजार एवं राज्य सरकार 4000 हजार दे रही है। लेकिन पन्ना जिले में स्वयं सेवी संस्था समर्थन के द्वारा ग्रामो का भ्रमण किया गया जहां पर सैकडो आदिवासी किसानो को किसान सम्मान निधि प्राप्त नही हो रही है। जिसको लेकर किसानो द्वारा अनेको वार जनसुनवाई में आवेदन दिये गये लेकिन उनको अभी तक इसका लाभ नही मिल पा रहा है। यदि सरकार से इनको लाभ मिल जाये तो इनकी खेती अच्छी हो जायेगी।
                    इसी तरह के कई प्रकरण में किसानो को लाभ मिल रहा है। एक जिले में दो तरह की नीत किसान हित में उचित नही है। आज पन्ना जनपद की कई ग्राम पंचायत के सैकडो किसान किसान पीएम सम्मान निधि पाने की आस लेकर जिले की जनसुनवाई में आये हुए थे तथा उनके द्वारा सामाजिक संस्था समर्थन कार्यालय आकर दस्तावेज एवं आवेदन तैयार कराकर जनसुवाई में पहुचे। जिसमे ग्राम न्यू झालर निवासी हक्का गोड़, छुटू गोंड़ आशाराम यादव, गोविन्दपुरा अमृतलाल आदिवासी, रहुनिया ग्राम पाठा के डीलन सिंह, रम्मू गोंड़ आदि सैकड़ो आदिवासी वंचित है। जिले में वन अधिकार प्राप्त पटटा एवं विस्थापन से मिली जमीन से लोग खेती कर रहे है। इनको अभी तक पीएम किसान सम्मान निधि नही मिल रही है। जबकि इसी प्रकार के और अन्य किसानो को सम्मान निधि का मिल रहा है जिले मे दो तरह के नियम कानून चल रहें है।