गिजुभाई शिक्षा दर्शन आज भी प्रासंगिक और अनुकरणीय है-अपर संचालक श्री मण्डलोई

6:12 pm or September 10, 2021
गिजुभाई शिक्षा दर्शन आज भी प्रासंगिक और अनुकरणीय है-अपर संचालक श्री मण्डलोई
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर १० सितम्बर ;अभी तक;  जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाइट) मंदसौर की वार्षिक पत्रिका ‘‘स्मारिका-2021‘‘ का विमोचन राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल के अपर संचालक श्री ओ.एल. मंडलोई के करकमलों से नूतन स्कूल परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में किया गया। स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव अंतर्गत प्रकाशित यह स्मारिका स्वतंत्रता पूर्व के भारतीय शिक्षाविद् गिजुभाई बधेका का बालकेन्द्रित शिक्षा में योगदान पर केन्द्रित है।
अपर संचालक श्री मंडलोई ने यह स्मारिका शिक्षक निर्माण व समाज निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगी। इसमें समावेश किये गये गिजुभाई के शिक्षा दर्शन भावी शिक्षकों का मार्गदर्शन करेंगे। गिजुभाई शिक्षा दर्शन आज भी प्रासंगिक और अनुकरणीय है।
             स्मारिका के संपादक डाइट प्राचार्य डॉ. प्रमोद सेठिया ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव पर स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान भारत के एकमात्र शिक्षाविद गिजुभाई बधेका ने महात्मा गांधी के साथ कार्य किया। उन्होंने बालकेंद्रित शिक्षा एवं पूर्व प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान किया है।
               स्मारिका का परिचय वरिष्ठ व्याख्याता डॉ. दिलीप सिंह राठौड़ ने प्रस्तुत किया। आभार प्रदर्शन प्रदीप पंजाबी  ने माना।
इस अवसर पर प्रमुख रूप से जिला शिक्षा अधिकारी आर.एल. कारपेंटर, एडीपीसी लोकेन्द्र डाबी, डीपीसी आर.पी. प्रजापति, डाइट के वरिष्ठ व्याख्याता प्रदीप पंजाबी सहित जिले के सभी बीआरसीसी,बीएसी, सीएसी,बीईओ उपस्थित थे।