गोवंश के अवशेष मिलने पर  उपद्रव,  गो हत्या के विरोध में बंद रहा खरगोन शहर, 3 प्रकरण दर्ज

आशुतोष पुरोहित
खरगोन २६  सितंबर ;अभी तक;  मध्य-प्रदेश के खरगोन जिला मुख्यालय पर गोवंश के अवयव पाए जाने पर गो हत्या के विरोध में रैली के दौरान हुए उपद्रव को नियंत्रित कर एहतियातन पुलिस बल तैनात किया गया ।
खरगोन के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर) नीरज चौरसिया ने बताया कि कल रात्रि खरगोन के बीटीआई रोड क्षेत्र में गोवंश के अवशेष पाए जाने को लेकर आक्रोशित लोगों की शिकायत पर अज्ञात लोगों के विरुद्ध गोवंश वध प्रतिषेध अधिनियम के अंतर्गत प्रकरण दर्ज किया गया था। आज इस मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इन आरोपियों के विरुद्ध पहले भी इस तरह के प्रकरण दर्ज हैं।
 उक्त घटना को लेकर एक संगठन से जुड़े करीब 200 लोगों ने रैली निकाल कर दुकानें बंद कराने का आग्रह किया। इसी दौरान बस स्टैंड स्थित एक पेट्रोल पंप को बंद कराने के दौरान वहां पर ईंधन भरवाने आए दो युवकों से भीड़ ने मारपीट की। उन्होंने इस बात से इनकार किया कि इस दौरान वहां भीड़ पर पथराव किया गया। पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए बल प्रयोग किया और भीड़ को खदेड़ दिया। घटना के चलते भगदड़ मच गई और लोगों ने दुकानें बंद कर ली।
उन्होंने कहा कि दो युवकों से मारपीट कर उन्हें घायल करने के मामले में पुलिस ने करीब एक दर्जन नामजद और डेढ़ सौ अज्ञात लोगों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश आरंभ कर दी है।
इसके अलावा बिना अनुमति रैली निकालने को लेकर धारा 144 के उल्लंघन के अंतर्गत भी एक अपराध दर्ज किया गया है।
उन्होंने बताया कि फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है और सामान्य है। एहतियात के तौर पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात रखा गया है।
 धर्म जागरण मंच के अजय भावसार के नेतृत्व में खरगोन के अपर कलेक्टर बीएस सोलंकी को गोवंश के अवैध परिवहन रोकने तथा खरगोन में स्थाई पुलिस अधीक्षक पदस्थ करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया।