गौरी सरोवर पर प्रदेश का दूसरा रोइंग सेंटर बनेगा, 4.96 करोड़ रुपए की लागत से होना है बोट हाउस

भिण्‍ड से डॉ. रवि शर्मा-

भिंड २१ दिसंबर ;अभी तक; शहर का ऐतिहासिक गौरी सरोवर केनोइंग- कयाकिंग में ख्याति अर्जित कर चुका है। यहां भोपाल के बाद प्रदेश का दूसरा रोइंग सेंटर बनना प्रस्तावित है। इसके लिए आज एक बार फिर भाेपाल से आई टीम द्वारा जगह का अवलोकन किया गया। इसके लिए स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने स्वीकृति प्रदान कर दी है। यहां न केवल नेशनल और इंटर नेशनल खिलाड़ी तैयार हो सकेंगे बल्कि प्रतियोगिताएं भी हो सकेंगी। यहां बता दें रोइंग सेंटर 4.96 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत है। लेकिन अब तक इसके लिए जगह निर्धारण करने आज भोपाल से आई टीम ने सरोवर से सटी जगह का एक बार फिर अवलोकन किया। करीब 6 महीने पहले भी आई थी।

तब स्थानीय विधायक संजीव सिंह कुशवाह के साथ जगह का अवलोकन किया गया था। रविवार को एक बार फिर कयाकिंग कैनोइंग के सीनियर कोच देवेंद्र गुप्ता और रोइंग के सीनियर कोच दलवीर सिंह की टीम ने तालाब के किनारे की जगह का अवलोकन किया। हालांकि पहले तालाब के उत्तर- पूर्वी काेना की जगह इसके लिए उपयुक्त बताई गई थी लेकिन संभवत: इसे किसी कारणवश खारिज कर दिया गया है अब की बार बोट क्लब के आसपास और सरोवर के दक्षिण- पूर्वी काेने की जगह पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

बोट हाउस, पवेलियन, इंडोर रोइंग हाउस बनेगा
वाटर स्पोर्ट्स सेंटर पर बोट हाउस, पवेलियन, इंडोर रोइंग हाउस, बाउंड्रीवाल, एप्रोच रोड, ड्राइ डॉक आदि का निर्माण होना है। बोट हाउस और राेइंग हाउस प्रतियोगिताओं के ओपनिंग और फिनिशिंग प्वाइंट के मद्देनजर बनाए जाते हैं। जिससे गतिविधियां संचालन में सहूलियत हो।

रोइंग स्पोर्ट्स: उल्टी दिशा में चलाई जाती है नौका
वॉटर स्पोर्ट्स की एक विधा रोइंग है। इसमें खिलाड़ियों द्वारा नौका अपने मुख से उल्टी दिशा में चलाई जाती है। इसका एक सेंटर भाेपाल में है। लेकिन वहां हवा तेज रहती है। इसलिए गौरी सरोवर का ट्रैक खिलाड़ियों के लिए बेहतर साबित होगा। यहां भविष्य में वॉटर फिल्टर प्लांट भी लगेगा।